ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानदो बोरी सरकारी गेहूं के बंटवारे पर पति-पत्नी में विवाद, नाराज महिला ने दो बच्चों संग जान दी

दो बोरी सरकारी गेहूं के बंटवारे पर पति-पत्नी में विवाद, नाराज महिला ने दो बच्चों संग जान दी

शाम को जब तीनों घर पर नहीं मिले तो तलाश शुरू की गई। घर से कई किलोमीटर दूर स्थित कुएं में टार्च से जांच की गई तो तीनों के शव तैरते हुए मिले। स्थानीय लोगों ने उन्हें बाहर निकालने में मदद की।

दो बोरी सरकारी गेहूं के बंटवारे पर पति-पत्नी में विवाद, नाराज महिला ने दो बच्चों संग जान दी
Sourabh Jainमुकेश मथरानी,बाड़मेर, राजस्थानWed, 12 Jun 2024 06:39 PM
ऐप पर पढ़ें

बाड़मेर में खाद्य सुरक्षा योजना के तहत मिले दो बोरी गेहूं को लेकर पति-पत्नी के बीच हुआ विवाद इतना बढ़ गया कि नाराज पत्नी ने अपने दोनों बच्चों के साथ कुएं में कूदकर जान दे दी। यह घटना सिंधियों की ढाणी में मंगलवार शाम को हुई, जब महिला रहमत (28) अपने पति शकूर खान से हुए झगड़े से नाराज होकर अपनी बेटी मरियम (8) और बेटे यासीन (5) को लेकर घर से करीब एक किलोमीटर दूर स्थित कुएं में कूद गई। इस घटना में तीनों की मौत हो गई। 

विवाद की वजह को लेकर पड़ोसियों ने बताया कि शकूर को खाद्य सुरक्षा योजना में दो बोरी गेहूं मिला था, पति उनमें से एक बोरी अपने परिवार को देना चाहता था, जबकि पत्नी इसके लिए तैयार नहीं थी। इसी बात पर दोनों झगड़ रहे थे। घटना का पता उस वक्त चला जब काम से लौटने पर शकूर को घर पर बच्चे एवं पत्नी के नहीं दिखे। जिसके बाद वह परिजनों के साथ उनकी तलाश में निकला और ढूंढते-ढूंढते उस कुएं के पास पहुंचा जहां उनकी चप्पलें पड़ी हुई थीं। आसपास के लोगों ने टॉर्च की रोशनी कर कुएं में देखा तो मां व बच्चे नजर आए। परिजनों और ग्रामीणों की मदद से तीनों को आनन-फानन में बाहर निकाला गया। तीनों को हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

बाड़मेर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जसाराम बोस ने जानकारी देते हुए बताया कि महिला रहमत ने पहले अपने बेटे और फिर बेटी को कुएं में डाला और फिर खुद भी कूद गई। मृतका की मां की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने ससुराल वालों के खिलाफ दहेज प्रताड़ना और हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतका ने पहले भी अपने पति और ससुराल वालों पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया था। पड़ोसियों का कहना है कि शकूर ने तीन महीने पहले ही नौकरी छोड़ी थी और इसके बाद वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ अलग रह रहा था। 

इस बीच स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी कि खाद्य सुरक्षा योजना के तहत दो बोरी गेहूं पाने वाला शकूर अपनी पत्नी के साथ घर आया था। उसने एक बोरी खुद के लिए रख ली और दूसरी अपने माता-पिता को देने का इरादा किया, जिससे दंपति के बीच कहासुनी हो गई। विवाद से नाराज शकूर दोनों बोरी गेहूं घर पर छोड़कर नागाणा स्थित तेल फैक्ट्री में काम करने चला गया। इस बीच रहमत ने बच्चों सहित खुदकुशी करने का कदम उठा लिया। परिजनों के मुताबिक, दोनों की शादी 10 साल पहले हुई थी।

उधर नागाणा थाने के सहायक उपनिरीक्षक ने बताया कि मृतक की मां अंजू खान निवासी नौसर गांव गिरदली सिंदरी ने रिपोर्ट दर्ज कराई है। उसने आरोप लगाया कि उसकी बेटी के पति शकूर खान, ससुर नाज खान, सास, देवर मुराक खान और ननद जानू ने उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया। इससे परेशान होकर उसने अपनी जान देने का फैसला किया। पुलिस ने आगे बताया कि मृतका ने पहले भी अपने पति और ससुराल वालों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया था।  

Advertisement