ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानहिमाचल के PWD मंत्री विक्रमादित्य सिंह को कोर्ट से बड़ा झटका, हर महीने पत्नी को देने होंगे 4 लाख

हिमाचल के PWD मंत्री विक्रमादित्य सिंह को कोर्ट से बड़ा झटका, हर महीने पत्नी को देने होंगे 4 लाख

हिमाचल प्रदेश के PWD मंत्री विक्रमादित्य सिंह को बड़ा झटका लगा है। उन्हें हर महीने पत्नी सुदर्शना सिंह को 4 लाख का भरण-पोषण देना होगा। उदयपुर पारिवारिक न्यायालय-3 ने फैसला सुनाया है। 

हिमाचल के PWD मंत्री विक्रमादित्य सिंह को कोर्ट से बड़ा झटका, हर महीने पत्नी को देने होंगे 4 लाख
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSat, 17 Feb 2024 07:02 AM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल प्रदेश के PWD मंत्री विक्रमादित्य सिंह को बड़ा झटका लगा है। उन्हें हर महीने पत्नी सुदर्शना सिंह को 4 लाख का भरण-पोषण देना होगा। उदयपुर पारिवारिक न्यायालय-3 ने अहम फैसला सुनाया है। बता दें विक्रमादित्य सिंह हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे है। उनकी पत्नी सुदर्शना सिंह उदयपुर के आमेट निवासी है। वीरभद्र सिंह के बेटे और वर्तमान कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह पर उनकी पत्नी सुदर्शना सिंह ने घरेलू हिंसा के आरोप लगाए थे। विक्रमादित्य सिंह की मां प्रतिभा सिंह, बहन के अलावा अन्य परिजनों पर भी पत्नी ने प्रताड़ना के आरोप लगाए। 

विक्रमादित्य की पत्नी सुदर्शना के वकील ने बताया कि राजसमंद के आमेट राजघराने की बेटी की शादी 8 मार्च 2019 को पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के पुत्र विक्रमादित्य के साथ हुई थी। काफी समय साथ रहने के बाद दोनों के बीच संबंध बिगड़ गए। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की मृत्यु के बाद सुदर्शना सिंह को उदयपुर भेज दिया गया। इस दौरान उनको दहेज के लिए प्रताड़ित किया गया. सुदर्शना चूंडावत ने घरेलू हिंसा से महिला संरक्षण अधिनियम की धारा 20 के तहत उदयपुर कोर्ट में शिकायत दर्ज की थी। सुदर्शना ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि विवाह के बाद वो अपने ससुराल शिमला आई और कुछ ही समय बाद उसके साथ मानसिक व शारीरिक प्रताड़ना की जाने लगी।

सुदर्शना ने अपनी शिकायत में कहा कि उसका विवाह विधायक विक्रमादित्य सिंह के साथ 8 मार्च 2019 को हुआ था। ये विवाह हिंदू रीति रिवाज से राजस्थान के कणोता गांव में हुई थी। शादी के बाद वो ससुराल में आ गई। यहां उसके साथ प्रताड़ना शुरू हो गई। शिकायत के अनुसार विधायक के परिवार ने उसके परिजनों यानी सुदर्शना के रिश्तेदारों को शिमला बुलाकर उसे जबरन उदयपुर भेजने का आरोप है। सुदर्शना ने अपनी शिकायत में अदालत से आग्रह किया है कि उसके ससुराल वालों को शारीरिक व मानसिक प्रताड़ना न करने के लिए कहा जाए।साथ ही उसे अलग से रहने के लिए मकान की व्यवस्था करने के आदेश भी पारित किए जाएं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें