राजस्थान: पैरों से चोरी कर रहा था चांदी का कड़ा, आंख खुली तो पोते ने कर डाली 100 साल की दादी की हत्या

राजस्थान के डूंगरपुर जिले में एक युवक ने अपनी 100 साल की दादी की हत्या कर दी। आठ दिन बाद राज खुला तो पोते व उसके एक सहयोगी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने पुलिस के सामने वारदात को अंजाम...

offline
लाइव हिंदुस्तान , डूंगरपुर Vishva Gaurav
Last Modified: Sat, 22 Jan 2022 12:59 PM

राजस्थान के डूंगरपुर जिले में एक युवक ने अपनी 100 साल की दादी की हत्या कर दी। आठ दिन बाद राज खुला तो पोते व उसके एक सहयोगी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने पुलिस के सामने वारदात को अंजाम देना कबूल किया है।

निठाऊवा थानाधिकारी अब्दुल रज्जाक ने बताया कि सागोट निवासी अमरी (100) पत्नी नाथिया मीणा की 14 जनवरी की रात को जब पोता नारायण (33) अपने सहयोगियों के साथ दादी के पैरों से चांदी के कड़े चुराने गया, तो दादी जाग गईं। पोते ने चादर से मुंह दबा कर उनकी हत्या कर दी और फिर दोनों चांदी का कड़ा लेकर फरार हो गए। घरवालों ने 100 साल उम्र होने की वजह से इसे सामान्य मौत मानते हुए दादी का अंतिम संस्कार कर दिया। 

घर वालों को था शक
दादी के एक पैर का चांदी का कड़ा चोरी होने पर परिवारवालों को शक हुआ था। उन्होंने कड़ा तलाशने की कोशिश भी की, लेकिन नहीं मिला। यह बात परिवार में सबको मालूम थी। गांव में भी लोग इस बात की चर्चा कर रहे थे।

शक ऐसे पुख्ता हुआ
इसी बीच दादी का पोता नारायण चांदी का कड़ा बेचने के लिए चला गया। खरीददार बदिया मीणा को शक हुआ तो, उसने रुपए बाद में देने को कहा। खरीदार ने दादी के बेटों मोगजी और जगदीश को कड़े के बारे में बताया। इसके बाद मोगजी को मां की मौत पर शक हुआ। उसने निठाउवा थाने में अपने भतीजे नारायण के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया।

पोते ने कबूला जुर्म
थानाधिकारी रज्जाक ने बताया कि बेटे मोगजी ने दादी की हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई, जिसके बाद जांच की गई। पुलिस टीम ने आरोपी पोते नारायण मीणा (33) को बेणेश्वर धाम से पकड़कर पूछताछ की। उसने भरत, किशोर और ईश्वर के साथ मिलकर दादी के पैरों के कड़े निकालने की योजना बनाना कबूल किया। पुलिस ने पोते नारायण मीणा और भरत भोई को गिरफ्तार किया है। सहयोगी किशोर साद और ईश्वर मीणा की तलाश की जा रही हैं।

ऐप पर पढ़ें

Udaipur Dungarpur Crime News On Livehindustan