ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानबिहार जाने वालों की आई मौज, राजस्थान से पटना के बीच चलेगी स्पेशल ट्रेन; ये होगा रूट

बिहार जाने वालों की आई मौज, राजस्थान से पटना के बीच चलेगी स्पेशल ट्रेन; ये होगा रूट

गर्मियों की छुट्टियों में बिहार जाने वालों के लिए गुड न्यूज है। रेलवे ने राजस्थान के कोटा से दानापुर (पटना) के बीच प्रत्येक शनिवार को गर्मी के सत्र के लिए विशेष रेलगाड़ी चलाने का निर्णय किया है।

बिहार जाने वालों की आई मौज, राजस्थान से पटना के बीच चलेगी स्पेशल ट्रेन; ये होगा रूट
Praveen Sharmaकोटा। वार्ताSat, 27 Apr 2024 03:03 PM
ऐप पर पढ़ें

गर्मियों की छुट्टियों में बिहार जाने वालों के लिए गुड न्यूज है। रेलवे ने राजस्थान के कोटा से दानापुर (पटना) के बीच प्रत्येक शनिवार को गर्मी के सत्र के लिए विशेष रेलगाड़ी चलाने का निर्णय किया है। कोटा मंडल के अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि रेल प्रशासन ने ग्रीष्मावकाश में भीड़ को कम करने के लिए कोटा-दानापुर-कोटा के मध्य साप्ताहिक विशेष रेलगाड़ी दोनों दिशाओं में 27 अप्रैल से 30 जून के बीच साप्ताहिक रूप में चलाने का निर्णय किया है।

पूर्व में जारी अधिसूचना में मामूली बदलाव किया गया है। यह गाड़ी अब कोटा से प्रत्येक शनिवार रात 9.05 बजे प्रस्थान के बजाय रात 9:25 बजे चलेगी। सूत्रों के अनुसार गाड़ी संख्या 09817 कोटा से दानापुर विशेष रेलगाड़ी आज से 29 जून तक प्रत्येक शनिवार रात 9:25 बजे प्रस्थान कर अगले दिन रविवार को शाम 6:30 बजे दानापुर स्टेशन पहुंचेगी।

इसी प्रकार गाड़ी संख्या 09818 दानापुर से कोटा अगले दिन रविवार को सायं 6:30 बजे दानापुर स्टेशन पहुंचेगी। प्रत्येक रविवार को 28 अप्रैल से 30 जून तक से दानापुर स्टेशन से रात्रि 9:30 बजे प्रस्थान कर अगले दिन सोमवार को रात 10:25 बजे कोटा पहुंचेगी।

इन स्टेशनों पर रुकेगी ट्रेन

रास्ते में यह गाड़ी दोनों दिशाओं में बारां, सालपुरा, छबड़ा गुगोर, रूठियाई, गुना, सागर, दमोह, कटनी, मैहर, सतना, मानिकपुर, प्रयागराज छिवकी, मिर्जापुर, पं. दीन दयाल उपाध्याय, बक्सर एवं आरा स्टेशनों पर रुकेगी।

रेलवे के सबसे लंबे पुल का निर्माण अगले वर्ष तक पूरा होने की संभावना

वहीं, पश्चिम-मध्य रेलवे के मध्य प्रदेश के कटनी में बन रहे भारतीय रेलवे के सबसे लंबे पुल (वायाडक्ट) का निर्माण कार्य प्रगति पर है और इसके अगले साल की शुरुआती तिमाही में बनकर तैयार हो जाने की संभावना है।

पश्चिम-मध्य रेलवे के कोटा मंडल के जन सम्पर्क अधिकारी ने अधिकारिक जानकारी में बताया कि जबलपुर मंडल के कटनी में बनाए जा रहे इस सबसे लंबे वायाडक्ट (पुल) के अप ग्रेड सेपरेटर की लम्बाई 16 किमी एंड डाउन ग्रेड सेपरेटर की लम्बाई 18 किलोमीटर सहित ग्रेड सेपरेट कुल लंबाई 34 किलोमीटर है। इस कुल लम्बाई के पुल में वॉयडक्ट 18 किमी, रिटेनिंग वॉल 3 किमी, और अर्थवर्क 13 किलोमीटर के साथ अप एंड डाउन ग्रेड सेपरेटर का निर्माण कार्य किया जा रहा है। इस परियोजना की लागत लगभग 1248 करोड़ रुपये है।

रेलवे के सूत्रों के अनुसार ग्रेड सेपरेटर परियोजना के निर्माण की मुख्य विशेषता यह है कि कटनी और कटनी मुड़वारा और न्यू कटनी जंक्शन के व्यस्त यार्ड को पार करने के लिए एलिवेटेड वायाडक्ट उपयोगी साबित होगी। इस ग्रेड सेपरेटर में वायाडक्ट (पुल) की कुल लंबाई 18 किलोमीटर है। अप ग्रेड सेपरेटर में कुल 260 स्पैन और डाउन ग्रेड सेपरेटर में 411 स्पैन निर्माणाधीन हैं। मौजूदा ट्रैक पर सुरक्षा व्यवस्था के साथ दिन-रात कार्य करते हुए ग्रेड सेपरेटर के निर्माण का काम जोरों पर है। अप ग्रेड सेपरेटर का काम सितंबर 2024 तक और डाउन ग्रेड सेपरेटर का काम मार्च 2025 में पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है। कटनी ग्रेड सेपरेटर की परियोजना के पूर्ण होने पर रेलवे के बीना-कटनी रेलखण्ड में गुड्स ट्रेन के परिचालन में वृद्धि होगी।

कटनी से बिलासपुर और सिंगरौली के लिए अतिरिक्त रेल लाइन का सीधे संपर्क जुड़ जायेगा और कटनी, नई कटनी, कटनी मुड़वारा जैसे अतिव्यस्त क्षेत्र से रेलखण्ड का बाईपास होगा। माल यातायात में वृद्धि होने से फ्रेट ट्रेनों के समय मे बचत होगी साथ ही आवागमन में आसानी होगी जिससे पश्चिम-मध्य रेल के रेल राजस्व में भी वृद्धि होगी।