ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानगोगामेड़ी हत्याकांड: FIR में किसके इशारों पर हुआ अशोक गहलोत का नाम दर्ज?

गोगामेड़ी हत्याकांड: FIR में किसके इशारों पर हुआ अशोक गहलोत का नाम दर्ज?

राजस्थान में सुखदेव गोगामेड़ी हत्याकांड ने राजनीतिक रंग ले लिया है। बुधवार को प्रशासन के साथ 8 बिंदुओं पर सहमति बनी है। बड़ा सवाल यह है कि किसके इशारे में गहलोत का नाम दर्ज कराया है।

गोगामेड़ी हत्याकांड: FIR में किसके इशारों पर हुआ अशोक गहलोत का नाम दर्ज?
Prem Meenaलाइव हिन्दुस्तान,जयपुरThu, 07 Dec 2023 07:33 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में सुखदेव गोगामेड़ी हत्याकांड ने राजनीतिक रंग ले लिया है। बुधवार को प्रशासन के साथ 8 बिंदुओं पर सहमति बनी है। सुखदेव की पत्नी की ओर से दर्ज एफआईआर में अशोक गहलोत का नाम दर्ज कराया गया है। शिकायत में कहा गया है कि प्रशासन की लापरवाही है। धमकी मिलने के बाद भी सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि किसके इशारे पर एफआईआर में गहलोत का नाम दर्ज कराया गया है।

 उल्लेखनीय है कि बुधवार को शाम तक गोगामेड़ी के परिजन पुलिस प्रशासन पर ही लापरवाही बरतने का आरोप लगाते रहे थे। लेकिन जैसे ही मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया तो इसमें पूरा दोष गहलोत सरकातर पर मंड दिया। जबकि हत्याकांड के होते ही राजपूत समाज से जुड़े संगठन सोशल मीडिया पर बीजेपी को निशाने् पर लेते रहे है। राजपूत मारवाड़ महासभा के अध्यक्ष हनुमान सिंह खांगटा बोले कि जब करणी सेना के सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने सुरक्षा मांगी थी तो प्रशासन की ओर से उन्हें सुरक्षा क्यों नहीं दी गई।  खांगटा ने कहा कि जब-जब प्रदेश में बीजेपी की सरकार सत्ता में आती है तब-तब राजपूत समाज निशाने पर आ जाता है। 

हत्याकांड ने ले लिया राजनीतिक रंग 

बुधवार दोपहर बाद बीजेपी नेताओं की बयानबाजी के बाद राजनीतिक तेज शुरू हो गई। बीजेपी नेता राजेंद्र सिंह राठौड़ मेट्रो मास अस्पताल पहुंचे और कांग्रेस सरकार को निशाने पर ले लिया। दीया कुमारी ने तो सीधे तौर पर घटना के लिए गहलोत को जिम्मेदार ठहरा दिया। सियासी जानकारों का कहना है कि गोगामेड़ी का परिवार सीधे तौर पर गहोलत को निशाने पर नहीं लेकर पुलिस प्रशासन को ही जिम्मेदार ठहरा रहा था। लेकिन रात के 8 बजे के आसपास दर्ज एफआईआर में गहलोत को नाम भी आ गया। बड़ा सवाल यही है कि किसके इशारे पर गहलोत का नाम एफआईआर में दर्ज हुआ है। 

जब जब बीजेपी आती है...

हनुमान सिंह खांगठाने कहा कि बड़े दुख के साथ कहना पड़ता है कि यह संयोग है? या योग है? जब-जब राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आती है। राजपूत समाज के दबंग नेता की हत्या होती है जैसे 2003 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आई थी। उस दौरान राजपूत समाज के वीरेंद्र सिंह नगला की असामाजिक तत्वों व बदमाशों ने हत्या कर दी थी। 2013 में बीजेपी की सरकार आई उसी दौरान आनंदपाल सिंह का एनकाउंटर हो गया। अब सरकार आते ही श्री राजपूत राष्ट्रीय करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की दिनदहाड़े उनके घर में घुसकर गोलीमार कर हत्या कर दी गई। उन्होंने कहा कि सुखदेव सिंह गोगामेडी समाज के लिए काम करते थे।  जिस तरह से उनकी उनके घर मे निर्मम हत्या की गई है पता नहीं इसके पीछे कौन है? षड्यंत्र है? कौन हत्याकांड के पीछे हैं?

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें