ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानजालोर के बाद बाड़मेर में दलित छात्र से मारपीट, उच्च वर्ग के कार्यक्रम स्थल पर जाने से रोका

जालोर के बाद बाड़मेर में दलित छात्र से मारपीट, उच्च वर्ग के कार्यक्रम स्थल पर जाने से रोका

आरोप है कि पीड़ित छात्र के साथ उसके ही सहपाठी छात्रों द्वारा मारपीट की गई। इस बीच पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मामला बाड़मेर जिले के नागाणा थाना क्षेत्र का है।

जालोर के बाद बाड़मेर में दलित छात्र से मारपीट, उच्च वर्ग के कार्यक्रम स्थल पर जाने से रोका
Mohammad Azamलाइव हिंदुस्तान,बाड़मेरThu, 18 Aug 2022 10:37 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के जालोर जिले में एक दलित छात्र के साथ पीने के पानी नाम पर मारपीट और उसकी मौत के बाद पूरे देश में मचे बवाल का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि अब पड़ोसी जिले बाड़मेर में भी एक दलित स्कूली नाबालिग छात्र को तथाकथित उच्च वर्ग के कार्यक्रम स्थल पर जाने से रोककर पिटाई करने का मामला सामने आया है। आरोप है कि पीड़ित छात्र के साथ उसके ही सहपाठी छात्रों द्वारा मारपीट की गई। इस बीच पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मामला बाड़मेर जिले के नागाणा थाना क्षेत्र का है।

कार्यक्रम स्थल पर जाने पर मारपीट

बाड़मेर जिले के नागाणा थाना क्षेत्र के सरका पार बान्दरा गांव के निवासी पीड़ित छात्र के पिता धर्माराम मेघवाल ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसके चार बेटे गांव के एक स्कूल में पढ़ते हैं, लेकिन बीते दिनों दंसवी कक्षा में पढ़ने वाले उसके बड़े बेटे के के सहपाठियों ने पहले उसे एक कार्यक्रम स्थल पर जाने से रोका और उसके बाद उसके साथ मारपीट की। आरोप है कि उक्त स्थान पर  एक कार्यक्रम था, जिसे देखने के लिए उसका बेटा जा रहा था, लेकिन उसके तथाकथित उच्च वर्ग के सहपाठियों ने उसे ऐसा करने से रोककर उसके साथ मारपीट की।

पिता ड्राईवर, पुत्र ने दी शिकायत

पुलिस को दी शिकायत में धर्माराम ने बताया कि वह एक ड्राईवर है और अभी मुबंई है। उसने पुलिस को बताया कि बीती 6 अगस्त को उसके पुत्र के कुछ सहपाठियों ने उसके पुत्र साथ मारपीट की थी। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि वह अपने पुत्र के साथ शिकायत भेज रहा है और वापस गांव लौटने पर पुलिस के समक्ष हाजिर होगा।

प्रधानाध्यापक ने की अनदेखी

पीड़ित का आरोप है कि घटना के बाद उसके विघालय के प्रधानाध्यापक वीरचंद मेघवाल को भी मामले की जानकारी दी थी और कार्रवाई के लिए कहा था, लेकिन उन्होनें घटना की अनदेखी की। पीड़ित धर्माराम ने पुलिस को कहा है कि उसे आशंका है कि उसके पुत्र के साथ फिर से ऐसी घटना हो सकती है।

मामला दर्ज, जांच शुरू

धर्माराम के पुत्र ने अपने पिता के कहे अनुसार पुलिस को शिकायत दी, जिसके आधार पर मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने बताया कि नागाणा थाने में तीन आरोपियो के खिलाफ आईपीसी की धारा 323 और एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच जारी है। पुलिस ने बताया कि तीनो आरोपी नाबालिग हैं।

epaper