ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानमेवाड़ विश्वविद्यालय में कश्मीरी और स्थानीय छात्रों के बीच भारी बवाल, कई घायल, फोर्स तैनात

मेवाड़ विश्वविद्यालय में कश्मीरी और स्थानीय छात्रों के बीच भारी बवाल, कई घायल, फोर्स तैनात

Rajasthan News: राजस्थान के मेवाड़ विश्वविद्यालय में छात्रों के दो गुटों के बीच भारी बवाल हो गया। झड़पों में कई छात्र घायल हो गए हैं। इसमें कुछ ही हालत नाजुक बताई जाती है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

मेवाड़ विश्वविद्यालय में कश्मीरी और स्थानीय छात्रों के बीच भारी बवाल, कई घायल, फोर्स तैनात
Krishna Singhहिंदुस्तान टाइम्स,उदयपुर-जयपुरSat, 26 Aug 2023 06:43 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ के मेवाड़ विश्वविद्यालय में शुक्रवार को छात्रों के दो गुटों के आमने सामने आने से बड़ा बवाल हो गया। पुलिस ने लगभग 36 छात्रों को हिरासत में लिया है। बताया जाता है कि देर रात जम्मू-कश्मीर के छात्रों के एक समूह और अन्य स्थानीय छात्रों के बीच झड़प हो गई। इस झड़प में दोनों पक्षों के लगभग छह से सात छात्र घायल हो गए। घायलों में दो छात्र आयुष शर्मा (20) और कृष्ण पाल शर्मा (21) को स्थानीय जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन कृष्ण पाल शर्मा की गंभीर हालत को देखते हुए उसे उदयपुर स्थानांतरित कर दिया गया। 

स्थानीय गंगरार पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस अधिकारी रूप सिंह ने कहा- चोट की गंभीरता को देखते हुए बेहतर इलाज के लिए कृष्ण पाल शर्मा को उदयपुर के लिए रेफर कर दिया गया है। बाकी सभी छात्रों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। चित्तौड़गढ़ के पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यंत ने कहा- छात्रों ने एक-दूसरे पर पथराव किया, जिससे दोनों पक्षों को चोटें आईं। कृष्णा को कांच का टुकड़ा लगा है। पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों के 36 लोगों को हिरासत में ले लिया। 

पुलिस ने बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों पर सीआरपीसी की धारा-151 के तहत मामला दर्ज किया गया है। घटना के बाद विश्व हिंदू परिषद, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और बजरंग दल के सदस्यों का एक समूह रात में विश्वविद्यालय के बाहर जमा हुआ और विश्वविद्यालय में कश्मीरी छात्रों के खिलाफ नारे लगाने लगा। वहीं बजरंग दल के पूर्व जिला प्रभारी मुकेश नाहटा ने कश्मीरी छात्रों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में कश्मीरी छात्रों के उत्पात की यह पांचवीं घटना थी।

बजरंग दल के नेता ने आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से कश्मीरी छात्रों के खिलाफ कोई कार्रवाई की गई है। उन्हें एक शैक्षणिक संस्थान के भीतर हथियार कैसे मिले? इसकी छानबीन होनी ही चाहिए। हम दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई चाहते हैं। एसपी ने यह भी कहा कि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि कृष्णा को कांच के टुकड़े से कैसे मारा गया। घटना की जांच चल रही है। हमने शांति सुनिश्चित करने के लिए विश्वविद्यालय परिसर में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया है। इस बीच विश्वविद्यालय प्रशासन ने मामले की जांच के लिए एक आंतरिक समिति का भी गठन किया।

वहीं मेवाड़ विश्वविद्यालय के निदेशक हरीश गुरनानी ने कहा- इस मुद्दे को अनावश्यक रूप से भौगोलिक रंग दिया जा रहा है। यह घटना कुछ सीनियर्स और जूनियर्स के बीच लड़ाई जैसी है। ऐसी घटना विश्वविद्यालय परिसर में बेहद आम है। मेस में कुछ सीनियर छात्रों ने रात्रिभोज के दौरान लाइन तोड़ दी जिससे जूनियर्स उग्र हो गए, जो दुर्भाग्य से कश्मीरी छात्रों और स्थानीय छात्रों के बीच की लड़ाई का मामला बन गया। मेवाड़ विश्वविद्यालय परिसर में लगभग 29 राज्यों के छात्र हैं। इनमें से लगभग 400 जम्मू-कश्मीर से हैं। विश्वविद्यालय में पुनः शांति बहाल कर दी गई है।