ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानझालावाड़ में गर्मी में तड़पते रहे बच्चे, दो नवजात शिशुओं की मौत; जांच के लिए कमेटी गठित

झालावाड़ में गर्मी में तड़पते रहे बच्चे, दो नवजात शिशुओं की मौत; जांच के लिए कमेटी गठित

राजस्थान के झालावाड़ जिले के सुकेत नगर के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के जनाना वार्ड में भर्ती दो नवजात शिशुओं की पंखे की गर्म हवा व लू लगने से मौत हो गई। जांच के लिए कमेटी गठित है।

झालावाड़ में गर्मी में तड़पते रहे बच्चे, दो नवजात शिशुओं की मौत; जांच के लिए कमेटी गठित
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरWed, 29 May 2024 06:28 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के झालावाड़ जिले के सुकेत नगर के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के जनाना वार्ड में भर्ती दो नवजात शिशुओं की पंखे की गर्म हवा व लू लगने से मंगलवार को मौत हो गई। परिजनों का दावा है कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही की वजह से मौत हुई है। मामले की जानकारी लेकर वार्ड में 4 कूलर लगाने व 1 डॉक्टर को 24 घण्टे अस्पताल में ड्यूटी के लिए नियुक्त करने के निर्देश जारी किए। जांच के लिए कमेटी का गठन भी कर दिया है। \

जानकारी के अनुसार जनाना वार्ड में अस्पताल प्रबंधन ने कूलर की व्यवस्था नहीं की हुई है। परिजनों का दावा है कि वार्ड में केवल पंखे ही लगे हुए है। जिनसे आती गर्म हवा वार्ड में भर्ती नवजात शिशुओं की मौत का कारण बन गई। जानकारी में आया है कि पहले वार्ड में 3 कूलर की व्यवस्था थी, लेकिन वार्ड से कूलर निकालकर अन्य जगहों पर शिफ्ट कर दिए गए। ऐसे में वार्ड में पंखों के सहारे रखे गए दो नवजात की गर्मी से मौत हो गई।

मृतक नवजात शिशु के पिता दरबार सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सुकेत अस्पताल में पत्नी सपना का प्रसव कराया था। इसके बाद मां और बच्चे को वार्ड में भर्ती कर दिया गया। जहां केवल पंखे लगे हुए थे। जिनसे गर्म हवा आ रही थी। वार्ड में एक भी कूलर नहीं था। बच्चा गर्म हो रहा था, मैंने सिस्टर को बच्चे को बुखार आने की जानकारी दी, लेकिन सिस्टर ने गर्म हवा के कारण बच्चे को गर्म होना बताया। अस्पताल में डॉक्टर नहीं था। डॉक्टर होता तो शायद मेरे बच्चे की जान बच जाती। गर्म हवा की चपेट में आने से सविता पत्नी मिथुन निवासी लक्ष्मीपुरा के नवजात की भी मौत हुई है।

रामगंजमण्डी ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. रईस खान ने बताया कि प्रसव हुए 72 घण्टे हो चुके थे। जिनको सुबह ही छुट्टी दे दी गई थी, लेकिन परिजन शिशुओं को लेकर नहीं गए, एक शिशु को समय से झालावाड़ रेफर कर दिया गया था। अस्पताल में दो शिशुओं की मौत हुई है। गर्मी से हुई ये जांच का विषय है। जिसके लिए जांच कमेटी गठित कर दी गई है। वही वार्ड में 1 कूलर पहले से लगा हुआ था। अब उन्हें बढ़ाकर 4 कर दिए है। साथ ही 24 घण्टे के लिए 1 डॉक्टर की अस्पताल में नियुक्ति कर दी गई है। अस्पताल में दो नवजात बच्चे भी अभी भर्ती है। जिनके लिए कूलर की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए है।