ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थान12 मंत्रियों पर केस, हो सकती है 5 साल से ज्यादा की सजा; क्या वापस लेगी भजनलाल सरकार?

12 मंत्रियों पर केस, हो सकती है 5 साल से ज्यादा की सजा; क्या वापस लेगी भजनलाल सरकार?

राजस्थान में भजनलाल शर्मा के मंत्रिमंडल 12 मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें 4 मंत्री ऐसे भी हैं, जिनके खिलाफ गंभीर धाराओं में केस दर्ज हैं। दोषी पाए जाने पर पांच साल या अधिक सजा हो सकती है।

12 मंत्रियों पर केस, हो सकती है 5 साल से ज्यादा की सजा; क्या वापस लेगी भजनलाल सरकार?
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSun, 18 Feb 2024 12:33 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में भजनलाल शर्मा के मंत्रिमंडल 12 मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें 4 मंत्री ऐसे भी हैं, जिनके खिलाफ गंभीर धाराओं में केस दर्ज हैं। यह गंभीर मामले उन धाराओं में दर्ज हैं, जो गैर जमानती अपराध हैं। इनमें दोषी पाए जाने पर पांच साल या उससे अधिक सजा हो सकती है। सीएम भजनलाल शर्मा के खिलाफ 1 मुकदमा दर्ज है जबकि कैबिनेट मंत्री मदन दिलावर के खिलाफ कुल 14 मुकदमे दर्ज हैं। कृषि मंत्री डॉ. किरोड़ी लाल मीणा के खिलाफ 12, वन मंत्री संजय शर्मा के खिलाफ 3, ऊर्जा मंत्री हीरालाल नागर, नगरीय विकास मंत्री झाबर सिंह खर्रा, गोपालन एवं गृह राज्य मंत्री जवाहर सिंह बेढम और जन स्वास्थ्य मंत्री कन्हैयालाल मीणा के खिलाफ 1-1 मुकदमा दर्ज है।

हत्या जैसी गंभीर धाराओं पर केस दर्ज

एडीआर की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार मदन दिलावर पर हत्या जैसी गंभीर धाराओं पर केस दर्ज है।  जबकि किरोड़ी लाल मीणा पर हत्या के प्रयास के मामले में नामजद है। सीएम भजनलाल शर्मा पर भी एक केस दर्ज है। मदन दिलावर पर कोटा ग्रामीण के थानों में 4,  कोटा सिटी के थानों में 2 और झालावाड़, राजसंमद और जयपुर के थाने में एक-एक केस दर्ज है। इनमें राजद्रोह, हत्या और महिला की गरीमा भंग करने जैसी गंभीर धाराए शामिल है। साथ ही आपराधिक धाराए रचने या उसमे शामिल होने और राजकार्य में बाधा डालने जैसे आरोप भी उन पर लगाए गए है। 

सबसे ज्यादा मुकदमे मदन दिलावर के खिलाफ

प्रदेश सरकार के शिक्षा मंत्री मदन दिलावर के खिलाफ सर्वाधिक मुकदमे दर्ज हैं। सबसे ज्यादा मुकदमे होने के साथ ही सबसे ज्यादा गंभीर धाराओं के मुकदमे भी दिलावर के खिलाफ दर्ज हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान दिलावर ने अपने नामांकन पत्र में आपराधिक मुकदमों का हवाला भी दिया। दिलावर के खिलाफ कोटा ग्रामीण के थानों में 4, कोटा शहर के पुलिस थानों में 2, झालावाड़, राजसमंद और जयपुर के अलग अलग थानों में 1-1 मुकदमे दर्ज हैं। दिलावर के खिलाफ दर्ज मुकदमों में राजद्रोह, हत्या, आपराधिक साजिश, राजकार्य में बाधा और महिला की गरिमा भंग करने जैसी धाराओं के मुकदमे भी शामिल हैं। अभी तक किसी भी मामले में उन्हें दोषी नहीं माना गया है। जांच सीआईडी सीबी के पास है।

डॉ. किरोड़ी लाल मीणा के खिलाफ कैसे मामले?
भजनलाल सरकार में कैबिनेट मंत्री डॉ. किरोड़ी लाल मीणा 12 आपराधिक मुकदमों के साथ दूसरे सर्वाधिक मुकदमों वाले मंत्री हैं। उनके खिलाफ जयपुर ग्रामीण जिले के सामोद और चंदवाजी, अलवर जिले के थानागाजी और रामगढ़, सवाई माधोपुर जिले के सूरवाल, मलारना डूंगर और चौथ का बरवाड़ा, करौली जिले के सपोटरा और जयपुर आयुक्तालय के ज्योति नगर पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज हैं। साथ ही जीआरपी अलवर, जीआरपी बांदीकुई और आरपीएफ बांदीकुई थाने में भी मुकदमे दर्ज हैं। कुल 12 आपराधिक प्रकरणों में ज्यादातर मुकदमे राजकार्य में बाधा के हैं, जो डॉ. मीणा की ओर से किए गए विभिन्न आंदोलन में अगुवाई के कारण दर्ज हुए हैं। दो मुकदमे हत्या के प्रयास और एक मुकदमा डकैती जैसी गंभीर धाराओं के भी हैं।

सीएम भजनलाल शर्मा पर भी एक मुकदमा दर्ज

प्रदेश के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के खिलाफ भी नई दिल्ली के एक पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज है। इसका हवाला उन्होंने चुनाव शपथ पत्र में भी दिया था। कुछ वर्षों पहले दिल्ली में किए गए एक प्रदर्शन के दौरान उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया था। इसमें धारा 353 और 149 लगाई गई थी। हालांकि इस मामले में पुलिस ने भजनलाल शर्मा को दोषी नहीं माना है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें