ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानसरकारी कर्मचारियों को प्रमोशन मिलना हुआ आसान, भजनलाल सरकार ने दी यह छूट

सरकारी कर्मचारियों को प्रमोशन मिलना हुआ आसान, भजनलाल सरकार ने दी यह छूट

राजस्थान में भजनलाल सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को डीपीसी में दो वर्ष की छूट दी है। आमजन को सरकारी सेवाओं का लाभ पहुंचाने को देखते हुए सरकार ने दो वर्ष की छूट दी है। कर्मचारियों को राहत मिली है।

सरकारी कर्मचारियों को प्रमोशन मिलना हुआ आसान, भजनलाल सरकार ने दी यह छूट
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSun, 11 Feb 2024 03:19 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में भजनलाल सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को डीपीसी में दो वर्ष की छूट दी है। आमजन को सरकारी सेवाओं का लाभ पहुंचाने को देखते हुए सरकार ने दो वर्ष की छूट दी है। इसके अलावा कार्मिकों को वेतन और जीपीएफ संबंधी सूचनाएं और विवरण मोबाइल एप के माध्यम से आनलाइन उपलब्ध कराई जाएगी। इसके अलावा रिटायरमेंट के बाद कार्मिकों को किसी प्रकार की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़े। इसके लिए रिटायरमेंट के दिन ही पेंशन और सभी तरह के परिलाभ दिए जाएंगे। वित्तमंत्री दीया कुमारी ने अंतरिम बजट में यह घोषणा की है। जल्द ही कार्मिक विभाग आदेश जारी करेगी। सरकार के इस निर्णय से कर्मचारियों को पदोन्नति की राह आसान हो गई है। 

पहले दिया था शिक्षकों को पदोन्नति का तोहफा 

इससे पहले सरकार ने शिक्षकों को पदोन्नति का तोहफा दिया था। नियमों में संशोधन से प्रधानाचार्य के पदों पर प्रमोशन के लिए शिथिलता के साथ ही लेक्चरर्स के पदों पर तीन सालों से पेंडिंग पदोन्नति का रास्ता साफ हो गया है। इससे सीनियर सेकेंडरी के विद्यार्थियों को जल्द ही व्याख्याता मिलने की उम्मीद बंधी है।असल में शिक्षा विभाग में राज्य सरकार द्वारा 3 अगस्त, 2021 को नए शिक्षा सेवा नियम जारी कर, लेक्चरर्स के पदों पर प्रमोशन के लिए ग्रेजुएशन के सब्जेक्ट्स में से किसी एक विषय में पीजी करने वाले को ही पदोन्नति के लिए पात्र माना गया था, लेकिन ये शर्त सीधी भर्ती में नहीं रखी गई थी।

शिक्षक यूनियनों द्वारा विरोध किए जाने और कोर्ट में वाद बन जाने के बाद राज्य की सरकार द्वारा नियमों में संशोधन की प्रक्रिया शुरू की गई थी, मगर विधानसभा चुनाव से पहले ही संशोधन का प्रोसेस पूरा होने तक आचार संहिता लग गई और अधिसूचना जारी नहीं हो सकी, अब राज्य सरकार ने शिक्षा सेवा नियम 2021 में संशोधन किया है और उन अध्यापकों को व्याख्याता पद पर पदोन्नति का पात्र मान लिया है, जिन्होंने तीन अगस्त, 2021 तक स्नातक के अलावा किसी दूसरे सब्जेक्ट में पीजी की है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें