ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानराजस्थान में सियासी बवाल, अशोक गहलोत के गद्दार बयान पर सचिन पायलट का आया जवाब

राजस्थान में सियासी बवाल, अशोक गहलोत के गद्दार बयान पर सचिन पायलट का आया जवाब

गहलोत के गद्दार बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए सचिन पायलट ने कहा कि अशोक गहलोत एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता हैं, मुझे नहीं पता कि उन्हें मेरे ऊपर झूठे और निराधार आरोप लगाने की सलाह कौन दे रहा है।

राजस्थान में सियासी बवाल, अशोक गहलोत के गद्दार बयान पर सचिन पायलट का आया जवाब
Devesh Mishraएएनआई,जयपुरThu, 24 Nov 2022 07:55 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान सरकार में एक बार फिर से सियासी चहलकदमियां बढ़ गई हैं। सीएम अशोक गहलोत ने सचिन पायलट को गद्दार कह दिया है। गहलोत के इस आक्रामक तेवर से कांग्रेस में उठापटक की पूरी संभावना बन गई है। इसी बीच सचिन पायलट ने कहा कि अशोक गहलोत ने मुझे नाकारा और गद्दार कहा…ये सब मुझपर निराधार आरोप हैं। सचिन पायलट ने कहा कि ये सब एक आधारहीन आरोप है।

पता नहीं कौन गहलोत को सलाह दे रहा है- पायलट
अशोक गहलोत के गद्दार बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए सचिन पायलट ने कहा कि अशोक गहलोत एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता हैं। मुझे नहीं पता कि उन्हें मेरे ऊपर झूठे और निराधार आरोप लगाने की सलाह कौन दे रहा है। पायलट ने कहा कि आज पार्टी को मजबूत करने की जरूरत है। राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा पर हैं और हम सभी को संयुक्त रूप से यात्रा को सफल बनाने की जरूरत है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को चुनौती देने वाली एकमात्र पार्टी कांग्रेस है। हमें सभी सत्तारूढ़ राज्यों में भाजपा को चुनौती देने की जरूरत है।

चुनाव जीतने पर दिया जोर
सचिन पायलट ने कहा कि जब मैं राजस्थान में पार्टी अध्यक्ष था तब राजस्थान में भाजपा बुरी तरह से हारी थी। चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने गहलोत को सीएम बनने का एक और मौका दिया। आज प्राथमिकता इस बात पर होनी चाहिए कि हम फिर से राजस्थान का चुनाव कैसे जीत सकते हैं।

जयराम रमेश ने कहा- मतभेद सुलझ जाएगा
गहलोत-पायलट विवाद पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) के महासचिव श्री जयराम रमेश ने कहा कि अशोक गहलोत एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता हैं। उन्होंने अपने सहयोगी सचिन पायलट के साथ जो भी मतभेद व्यक्त किए हैं, उन्हें इस तरह से सुलझाया जाएगा जिससे कांग्रेस पार्टी मजबूत हो। अभी यह प्रत्येक कांग्रेसी का कर्तव्य है कि पहले से ही बेहद सफल भारत जोड़ो यात्रा को उत्तर भारतीय राज्यों में और भी प्रभावशाली बनाएं।

क्या है पूरा मामला?
बता दें कि राहुल गांधी की अगुवाई में भारत जोड़ो यात्रा मध्य प्रदेश पहुंच चुकी है। कुछ दिनों बाद यह यात्रा राजस्थान पहुंचेगी। ऐसे में अशोक गहलोत के बयान से सियासी माहौल गर्म हो गया है। गहलोत ने सचिन पायलट को गद्दार कहते हुए कहा था कि वो उन्हें कभी भी मुख्यमंत्री स्वीकार नहीं कर सकते।

राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को चार साल हो गए हैं। ऐसा बताया जाता है कि सचिन पायलट सीएम बनने की चाह रखते थे लेकिन कांग्रेस आलाकमान ने गहलोत को सीएम बनाया। पायलट के समर्थक चाहते हैं कि गहलोत की जगह पायलट को सीएम बनाया जाए। कांग्रेस पार्टी के एक गुर्जर नेता ने यहां तक कह दिया कि अगर पायलट को सीएम नहीं बनाया गया तो वो राज्य में राहुल गांधी की अगुवाई में आ रही भारत जोड़ो यात्रा का विरोध करेंगे। ऐसे में सचिन पायलट ने गहलोत के बयान को एक आधारहीन आरोप बताया है।

epaper