ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानAye Zindagi Tax Free: राजस्थान में टैक्स फ्री हुई फिल्म 'ऐ जिंदगी'

Aye Zindagi Tax Free: राजस्थान में टैक्स फ्री हुई फिल्म 'ऐ जिंदगी'

राजस्थान की गहलोत सरकार ने  फिल्म 'ए जिंदगी' को टैक्स फ्री कर दिया है। बता दें, सच्ची कहानी पर आधारित फिल्म 'ए जिंदगी' सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। जिसका निर्देशन अनिर्बान बोस ने किया है। 

Aye Zindagi Tax Free: राजस्थान में टैक्स फ्री हुई फिल्म 'ऐ जिंदगी'
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSat, 15 Oct 2022 04:14 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान की गहलोत सरकार ने  फिल्म 'ए जिंदगी' को टैक्स फ्री कर दिया है। बता दें, सच्ची कहानी पर आधारित फिल्म 'ए जिंदगी' सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। जिसका निर्देशन अनिर्बान बोस ने किया है। इस फिल्म में सत्यजीत दुबे, मृणमयी गोडबोले, श्रीकांत वर्मा और हेमंत खेर जैसे कलाकार एक साथ नजर आए हैं। बेशक इस फिल्म का ज्यादा प्रमोशन नहीं हुआ। लेकिन राजस्थान सरकार ने अपने राज्य की जनता को कम कीमत पर इस फिल्म को देखने का मौका दिया है। गहलोत सरकार के फैसले पर फिल्म निर्माता ने खुशी जाहिर की है। 

6 माह की अवधि के लिए प्रभावी रहेगी 

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी आदेश के अनुसार, राज्य सरकार प्रदेश में अंगदान को प्रोत्साहित करने के लिए निरंतर प्रयासरत है। सच्ची कहानी पर आधारित यह फिल्म नैतिक अंगदान को प्रोत्साहित करती है। यह फिल्म जनता को अंग दाताओं के रूप में साइनअप करने की प्रेरणा देती है। सीएम गहलोत की इस स्वीकृति के बाद पंजीकृत मल्टीप्लेक्स व सिनेमाघरों द्वारा एसजीएसटी की धनराशि को घटाकर दर्शकों को टिकट का विक्रय किया जाएगा। उक्त मंजूरी आदेश जारी करने की तिथि से 6 माह तक अवधि के लिए प्रभावी रहेगी।

फिल्म का निर्माण शिलादित्य बोरा ने किया

उल्लेखनीय है कि इस फिल्म का निर्माण शिलादित्य बोरा ने किया है। राजस्थान सरकार के इस फैसले के बाद उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'हम इस कदम के लिए राजस्थान सरकार को धन्यवाद देना चाहते हैं। कर-मुक्त बनाने के बाद ज्यादा लोग इस फिल्म को देखेंगे और उन्हें पता चलेगा कि अंग दान कैसे जीवन को बदल देता है और लाखों लोगों को आशा देता है जो अन्यथा मर जाते हैं, एक अंग की प्रतीक्षा में।

सच्ची घटना पर आधारित है फिल्म 

बता देंइस फिल्म की कहानी विनय और उससे जुड़े लोगों के दर्द के इर्द-गिर्द घूमती हैं जो ऑर्गन डोनर की खोज कर रहे हैं. सच्ची घटनाओं से प्रेरित फिल्म प्यार, उपचार और आशा जैसे संवेदनशील विषयों का मेल हैं. 26 वर्षीय लीवर सिरोसिस रोगी विनय चावला (सत्यजीत दुबे) की यात्रा को दर्शाती है. इंडस्ट्री के लोग सत्यजीत दुबे की एक्टिंग स्किल की तारीफ करते नही थक रहे हैं.