DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अजमेर सीट लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा के भागीरथ चौधरी ने किया कब्जा 

haryana bjp makes historic victory in 2019

राजस्थान की सभी 25 लोकसभा सीटों पर भाजपा ने अपना कब्जा कर लिया है। राज्य की सभी सीटें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने जीती। इनमें से 24 सीटें भाजपा व एक इसके सहयोगी दल राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के खाते में गई है। राजस्थान की अजमेर सीट से भाजपा के भागीरथ चौधरी ने कांग्रेस के रिजु झुनझुनवाला को 416424 मतों से हराया। भागीरथ चौधरी को 815076 वोट व झुनझुनवाला को 398652 वोट मिले।

17वीं लोकसभा के लिए राजस्थान के ऐतिहासिक अजमेर संसदीय लोकसभा सीट के लिए मतदाता इस बार अपना 19वां सांसद चुना। यहां हजरत मोइनुद्दीन चिश्ती की प्रसिद्ध दरगाह भी है और ब्रह्मा जी का प्रसिद्ध एकमात्र मंदिर पुष्कर भी। राजनीतिक लिहाज से भी अजमेर लोकसभा क्षेत्र को किसी एक पार्टी विशेष का गढ़ नहीं माना जाता। सिर्फ एक बार (1977) के लोकसभा चुनाव को छोड़कर 1989 तक यहां से हर बार कांग्रेस प्रत्याशी जीता। 

संसदीय सीट का इतिहास
- अजमेर लोकसभा के 1952 में हुए प्रथम चुनाव में अजमेर शहर के उत्तर से ज्वालाप्रसाद तथा दक्षिण से मुकुट बिहारीलाल भार्गव निर्वाचित हुए। 
- 1957 एवं 1962 में मुकुट बिहारीलाल भार्गव चुने गए। 
- वर्ष 1967 एवं 1971 में विश्वेश्वरनाथ भार्गव चुनाव जीते और कांग्रेस का परचम लहराते रहे। 
- लेकिन, 1977 में भारतीय लोक दल से श्रीकरण शारदा ने कांग्रेस को शिकस्त देकर सीट कब्जाली। 
- वर्ष 198० में आचार्य भगवानदेव तथा 1984 में विष्णु मोदी ने कांग्रेस की प्रतिष्ठा बचाई। उसके बाद 1989, 1991 और 1996 में लगातार रासा सिंह रावत ने भाजपा को जीत दिलाई। 
- वर्ष 1998 में डॉ. प्रभा ठाकुर ने कांग्रेस को फिर संसद में पहुंचाया। लेकिन 1999 और 2004 में रासा सिंह रावत ने भाजपा का एकबार फिर कब्जा करा दिया। 
- 2009 में सचिन पायलट सांसद बने। 
- 2014 में प्रो. सांवरलाल जाट भाजपा से चुने गए। उनके निधन के बाद 2018 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस के डॉ. रघु शर्मा सांसद चुने गये। इस बार फिर अजमेर के मतदाताओं ने भाजपा के भागीरथ चौधरी ने कांग्रेस के रिजु झुनझुनवाला को 416424 मतों से हराया।

जातीय समीकरण
जिले में जातिगत मतदाताओं का आंकलन करें तो करीब ढाई लाख जाट, दो लाख ब्राह्मण, पौने दो लाख लाख गुर्जर, सवा दो लाख मुसलमान, एक लाख वैश्य, एक लाख रावत, एक लाख सिंधी, एक लाख माली, सवा दो लाख अनुसूचित जाति जनजाति के अलावा अहीर, यादव, कुमावत, दजीर्, सिख, लोधी, रेवारी, चारण, नाई, सुनार, तेली, कलाल, लखेरा सहित अन्य जातियों की मतों में हिस्सेदारी है।

जयपुर सीट लोकसभा चुनाव 2019: एक बार फिर रामचरण बोहरा ने दर्ज की जीत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ajmer Loksabha Seat 2019 BJP won on jaipur seat