DA Image
13 सितम्बर, 2020|3:28|IST

अगली स्टोरी

राजस्थान: कांग्रेस में गुटबाजी खत्म करने के लिए एक्शन मोड में अजय माकन, विधायकों से वन-टू-वन कर रहे हैं बात

congress leader ajay maken demands resignation of central minister  gajendra singh shekhawat resignat

राजस्थान कांग्रेस में गुटबाजी को खत्म करने जयपुर पहुंचे नए प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने सोमवार को करीब 46 कांग्रेसी नेताओं से एक-एक कर बात की। माकन ने कहा कि अब राजस्थान कांग्रेस में गुटबाजी वाली बात नहीं है और पार्टी इससे आगे निकल चुकी है। हालांकि माकन के दौरे के पहले ही दिन गुटबाजी साफ नजर आई।

मंत्रियों से पहले माकन से मिलने पहुंचे पायलट समर्थक विधायक हेमाराम व दीपेंद्र सिंह शेखावत ने माकन से अकेले में मिलने की शर्त रख दी। माकन के साथ मौजूद सह प्रभारी विवेक बंसल और प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को वहां से उठकर जाना पड़ा।

प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि माकन ने मिलकर सभी लोगों ने अपने सुझाव दिए। इनमें बीडी कल्ला, रघु शर्मा, रामेश्वर डूडी, राम नारायण मीणा परसादीलाल लाल मीणा, ममता भूपेश, अर्जुन बामनिया महेंद्र चौधरी, मोहन प्रकाश, धीरज गुर्जर, अशोक चांदना, गणेश घोघरा, नरेंद्र बुडानिया, अश्कली टाक, परसराम मोरदिया बाबूलाल नागर के नाम शामिल हैं।

फीडबैक बैठक के बाद माकन ने शाम 6 बजे प्रेस कान्फ्रेंस कर सरकार के काम काज की तारीफ की। उन्होंने कहा कि सरकार के मंत्रियों को जो काम 5 साल में करने थे, उनमें से70 फीसदी काम 2 साल में ही कर लिए गए हैं।

माकन ने कहा कि जिले के प्रभारी मंत्रियों को महीने में एक बार संगठन की बैठक लेनी है। प्रदेश में राजनीतिक नियुक्तियों और संगठन में फेरबदल की बात पर माकन ने कहा कि हमने अपने मन और दिमाग में तय कर रखा है कि कब बदलाव करना है।

पायलट गुट के एक अन्य वरिष्ठ विधायक दीपेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि माकन से उन्होंने भी बात की हैं। उन्होंने कहा कि जो माकन चाहते हैं, उन्हें निश्चित रूप से सारी जानकारी देंगे। वहीं, सचिन पायलट गुट के प्रमुख सिपेहसालार माने जाने वाले वरिष्ठ विधायक हेमाराम ने माकन से अकेले में मुलाकात की। माकन से मिलने बाद हेमाराम ने कहा कि अब कोई नाराजगी नहीं है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ajay Maken in action mode to end factionalism in Congress talking to legislators one-to-one