ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानअग्निपथ की आग का सच! भरतपुर में प्रदर्शकारियों पर पहले पुलिसवालों ने किया था पथराव, फिर हुई थी झड़प

अग्निपथ की आग का सच! भरतपुर में प्रदर्शकारियों पर पहले पुलिसवालों ने किया था पथराव, फिर हुई थी झड़प

जब पुलिस का अतिरिक्त जाब्ता युवाओं के पास पहुंचा तो उन पर लाठियां बरसाना और उन्हें पकड़ना शुरू कर दिया। इसके बाद प्रदर्शनकारी वहां से भागने लगे। तभी एक पुलिसकर्मी वहां पर पथराव करने लगा।

अग्निपथ की आग का सच! भरतपुर में प्रदर्शकारियों पर पहले पुलिसवालों ने किया था पथराव, फिर हुई थी झड़प
Vishva Gauravलाइव हिंदुस्तान,भरतपुर।Sun, 19 Jun 2022 03:08 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

देश में केन्द्र सरकार की अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। दूसरी ओर राजस्थान के भरतपुर में बीते दिनों पुलिस के साथ हुई झड़प के मामले में अब सीसीटीवी खंगाली जा रही है और युवाओं की पहचान कर गिरफ्तारी की जा रही है। 

बीते 17 जून को भरतपुर रेलवे स्टेशन पर हुए पुलिस और युवाओं के बीच आपसी संघर्ष में आमने-सामने दोनों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई थी। इसमें पुलिस का एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया था। वीडियो सामने आने के बाद पुलिस पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। इससे पहले प्रदर्शनकारी युवाओं ने आरोप लगाया था कि वह शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने उनपर पथराव शुरू कर दिया। अब इसका वीडियो सामने आ गया है।

वीडियो में दिख रहा है कि रेलवे पटरी पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे युवा पुलिस की टीम के पहुंचने पर भागने लगते हैं। इसके बाद पुलिस की ओर से पत्थर उठाकर फेंका गया, तो दूसरी ओर से भी पत्थरबाजी शुरू हो गई। इससे पहले एक पुलिस अफसर के प्रदर्शनकारियों से बात करने का वीडियो भी सामने आया है, जिसमें वह कहते दिख रहे हैं कि कोई रेलवे संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाएगा।

रेलवे स्टेशन पर किया था उपद्रव
जानकारी के मुताबिक, 17 जून को अग्निपथ योजना के विरोध में पुलिस और युवाओं के बीच पथराव हो गया था। अब सामने आए वीडियो में दिख रहा है कि पुलिस के कहने पर युवाओं ने रेलवे लाइन पर जो लोहे के एंगल डाल दिए थे, उन्हें हटाना भी शुरू कर दिया। इसके बावजूद जब पुलिस का अतिरिक्त जाब्ता युवाओं के पास पहुंचा तो उन पर लाठियां बरसाना और उन्हें पकड़ना शुरू कर दिया। इसके बाद पप्रदर्शनकारी वहां से भागने लगे। तभी सिविल ड्रेस में तैनात एक पुलिसकर्मी वहां पर पथराव करने लगा। इसके बाद अन्य पुलिसकर्मियों ने भी पत्थर फेंके। फिर जवाब में प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने पुलिस पर जबरदस्त पत्थरबाजी शुरू कर दी।

यह बोली पुलिस
मामले को लेकर सिटी सीओ सतीश वर्मा ने बताया कि रेलवे लाइन पर कब्जा करके सैकड़ों प्रदर्शनकारी बैठे हुए थे और नारेबाजी कर रहे थे। जब उनको रेलवे ट्रैक से हटने के लिए कहा गया तो प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया था। इसमें कुछ पुलिसकर्मियों के चोट लगी हैं। पुलिस की ओर से पहले पत्थरबाजी की बात गलत है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें