ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानहार से ऐसा दिल टूटा कि लिया ब्रेक, भाजपा के दिग्गज नेता सतीश पूनिया ने बोला- Bye, Bye

हार से ऐसा दिल टूटा कि लिया ब्रेक, भाजपा के दिग्गज नेता सतीश पूनिया ने बोला- Bye, Bye

राजस्थान बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया आमेर से चुनाव हारने पर बेहद आहत हो गए है। पूनिया ने ट्वीट किया- आमेर के लोगों को समय नहीं दे पाऊंगा। कुछ दिन राजनीति से दूर रहूंगा।

हार से ऐसा दिल टूटा कि लिया ब्रेक, भाजपा के दिग्गज नेता सतीश पूनिया ने बोला- Bye, Bye
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरMon, 04 Dec 2023 03:27 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया आमेर से चुनाव हारने पर बेहद आहत हो गए है। पूनिया ने ट्वीट किया- राम राम सा,लोकतंत्र में जनता जनार्दन होती है, मैं आमेर की जनता के निर्णय को स्वीकार करता हूँ और कांग्रेस के विजयी प्रत्याशी प्रशांत शर्मा जी को बधाई देता हूं। आशा करता हूं कि वो आमेर के विकास को यथावत गति देते रहेंगे और जन भावनाओं का सम्मान करेंगे।सत्ता के केंद्र वाले जिले कि आमेर विधानसभा से हार के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता सतीश पूनिया ने अपने वोटर के नाम एक पैगाम देते हुए भावुक पोस्ट लिखी है। इस पोस्ट में सतीश पूनिया ने कहा कि जनता जनार्दन होती है और मैं जनता के फैसले को स्वीकार करते हुए कांग्रेस के प्रत्याशी और विजेता प्रशांत शर्मा को बधाई देता हूं। पूनिया ने कहा कि मैं उम्मीद जताता हूं कि वह जन भावना का सम्मान कर विकास को रफ्तार देंगे।

आमेर से रिश्ते का किया जिक्र 

पूनिया ने आमेर से अपने रिश्ते का जिक्र करते हुए कहा कि साल 2013 में पार्टी के निर्देश पर चुनाव लड़ने आया था, तब 329 वोटों की हार हुई। सतीश पूनिया ने कहा कि भाजपा की सरकार के दौरान हमने यहां विकास को मुद्दा बनाकर काम किया। उन्होंने आमेर का जिक्र करते हुए कहा कि लोग कहते हैं कि यहां बड़ी-बड़ी जातियों का बाहुल्य है और जातियों के इस जंजाल में जाति से ऊपर उठकर कोई विकास की सोच थोड़ा मुश्किल है। ऐसा कहते हुए पूनिया ने कहा कि विकास बनाम जाति की लड़ाई में हम लोगों को समझाने में हम विफल रहे।

आमेर की जनता को समय नहीं दे पाऊंगा

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर सतीश पूनिया ने कहा कि आमेर की हार मेरे लिए सोचने पर मजबूर करने वाली है। पूनिया ने इस हार को आघात जैसा बताया है। पूनिया ने कहा कि हमने सपने देखे थे कि आमेर इस बार रिवाज बदलेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। एक बड़े फैसले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह वक्त मेरे लिए कठिन परीक्षा की घड़ी जैसा है। अब मैं आमेर के लोगों और कार्यकर्ताओं को सेवा और समय नहीं दे पाऊंगा। पूनिया ने इस फैसले से पार्टी के नेतृत्व को अवगत कराने की भी बात कही। वे बोले कि अरसे से पार्टी संगठन को पूरा समय देने के कारण पारिवारिक कामों से दूर रहा हूं और अब कुछ समय अपने पारिवारिक कामों को पूरा करने में लगाऊंगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें