ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानगुजरात के राजकोट हादसे के बाद जयपुर में एक्शन, 6 गेम जोन सीज

गुजरात के राजकोट हादसे के बाद जयपुर में एक्शन, 6 गेम जोन सीज

गुजरात के राजकोट में गेम जोन में 28 लोगों की मौत के बाद जयपुर में भी प्रशासन एक्टिव मोड में आ गया है। प्रशासन ने राजधानी जयपुर समेत विभिन्न जिलो में निरीक्षण किया। जयपुर में 6 गेम जोन सीज कर दिए है।

गुजरात के राजकोट हादसे के बाद जयपुर में एक्शन, 6 गेम जोन सीज
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरMon, 27 May 2024 09:22 AM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात के राजकोट में गेम जोन में 28 लोगों की मौत के बाद जयपुर में भी प्रशासन एक्टिव मोड में आ गया है। रविवार को छुट्टी के दिन नगर निगम ग्रेटर की टीम ने शहर में चल रहे गेम जोन का औचक निरीक्षण किया। खामियां मिलने पर झोटवाड़ा के ट्राइटन मॉल में चल रहे 6 गेम जोन सीज कर दिए है।  रविवार को श्रीगंगानगर के रिद्धि सिद्धि मॉल और एनएच 62 स्थित गेमिंग जोन में पुलिस अधिकारियों ने सभी तरह की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। एनएच 62 स्तिथ गेमिंग जोन में कमियां मिलने पर उसे एकबारगी बंद करवाया गया है।

श्रीगंगानगर एसपी गौरव यादव ने बताया कि गुजरात के राजकोट में गेमिंग जोन में हुए अग्निकांड हादसे के बाद राज्य सरकार काफी अलर्ट हो गई है। उन्होंने बताया कि श्रीगंगानगर के रिद्धि सिद्धि मॉल और एनएच 62 स्तिथ गेमिंग जोन में आज सभी व्यवस्थाओं की जांच की गई। इसके लिए पुलिस के उच्च अधिकारियों की एक टीम बनाई गई। इसमें आईपीएस बी आदित्य, आईपीएस विनय कुमार, सीआई रमेश जाट को लिया गया। सभी अधिकारी जाब्ते के साथ रिद्धि सिद्धि मॉल के गेमिंग जोन पहुंचे और गेमिंग जोन को कुछ देर के लिए खाली करवाया गया।

इसके बाद गेमिंग जोन के लिए आवश्यक सेर्टिफिकेट, सुरक्षा उपकरण, फायर सेफ्टी उपकरण, मेकेनिकल सर्टिफिकेट आदि की गहनता से जांच की गई। उन्होंने बताया कि रिद्धि सिद्धि मॉल में छोटी-मोटी कमियों के अलावा सभी व्यवस्थाएं सही पाई गई। कमियों को पूरा करने के लिए पाबन्द किया गया है। आईपीएस बी आदित्य ने बताया कि इसके बाद एनएच 62 स्थित गेमिंग जोन का भी निरिक्षण किया गया। यहां गेमिंग जोन के लिए आवश्यक दस्तावेज पूरे नहीं थे। इसके अलावा भी कई कमियां मिली। ऐसे में कमियों को पूरा करने तक गेमिंग जोन को आम लोगों के लिए बंद करवाया गया है। उन्होंने बताया राजस्थान में राजकोट की तरह की घटना ना हो, इसलिए यह निरीक्षण किया गया।