ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानRajasthan ACB : एक्शन में भजनलाल सरकार, इस IAS को 35 हजार की रिश्वत लेते किया ट्रैप

Rajasthan ACB : एक्शन में भजनलाल सरकार, इस IAS को 35 हजार की रिश्वत लेते किया ट्रैप

राजस्थान में एसीबी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए आईएएस प्रेमसुख बिश्नोई को 35 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। लाइसेंस देने की एवज में मत्स्य विभाग के निदेशक ने एक लाख मांगे।

Rajasthan ACB : एक्शन में भजनलाल सरकार, इस IAS को 35 हजार की रिश्वत लेते किया ट्रैप
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSat, 20 Jan 2024 06:49 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में एसीबी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए आईएएस प्रेमसुख बिश्नोई को 35 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। एसीबी ने मत्स्य विभाग के निदेशक IAS और सहायक निदेशक को 35 हजार रुपये की कथित रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। यह जानकारी ब्यूरो के एक अधिकारी ने दी. घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार हुए आईएएस ऑफिसर की पहचान मत्स्य विभाग के निदेशक प्रेमसुख बिश्नोई के रूप में हुई है।  कार्रवाई के बारे में एसीबी के कार्यवाहक महानिदेशक हेमंत प्रियदर्शी ने एक बयान में बताया कि परिवादी ने शिकायत दी थी कि टोंक में अन्नपूर्णा तालाब में मछली पकड़ने एवं परिवहन का लाइसेंस देने की एवज में मत्स्य विभाग के निदेशक प्रेमसुख विश्नोई (आईएएस) एवं सहायक निदेशक राकेश देव द्वारा उसे एक लाख रुपये की रिश्वत की मांग करके परेशान किया जा रहा था। 

एसीबी की ठिकानों पर भी सर्च जारी 

प्रियदर्शी  ने कहा कि ब्यूरो के दल ने शुक्रवार को शिकायत के सत्यापन के बाद मत्स्य विभाग के निदेशक प्रेमसुख विश्नोई (आईएएस) एवं सहायक निदेशक राकेश देव को परिवादी से 36 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि ब्यूरो के अधिकारी आरोपियों से पूछताछ कर रहे हैं। एडीजी हेमंत प्रियदर्शी ने बताया- आईएएस प्रेम सुख बिश्नोई और एडिशनल डायरेक्टर राकेश देव के ठिकानों पर भी सर्च की जा रही है। दोनों के घर और अन्य ठिकानों पर सर्च में कुछ मिल सकता है।

एक्शन में मोड़ में सीएम भजनलाल 

उल्लेखनीय है कि सीएम भजनलाल सरकार ने अपने इराने साफ जाहिर कर दिए है। करप्शन से जुड़े मामले में सरकार पूरी तरह से गंभीर है। दोषी अधिकारियों को नहीं छोड़ा जाएगा। सत्ता में आने के बाद भजनलाल सरकार की यह पहली बड़ी कार्रवाई है। सीएम ने एसीबी को खुली छूट दे रही है। किसी भी प्रकार के लापरवाही नहीं बरतने के निर्देश दिए है। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में बड़े अधिकारी एसीबी की रडार पर हो सकते है। एसीबी ने जिस तरह से एक्शन लिया है उससे अफसरों में एक तरह से सख्त संदेश जाएगा।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें