DA Image
11 मई, 2021|12:09|IST

अगली स्टोरी

9 करोड़ कीमत की 2 लाख गर्भपात वाली किट बरामद, जानें राजस्थान में कैसे चल रहा था अवैध कारोबार

 9                                     2

राजस्थान के जयपुर में गर्भपात में काम ली जाने वाली एमटीपी किट के अवैध कारोबार का पर्दाफाश हुआ है। जांच में सामने आया कि जिस फर्म को ड्रग विभाग की ओर से एमपीटी किट बेचने का लाइसेंस ही जारी नहीं किया गया, वह भी इसे बेच रहा था। 

औषधि नियंत्रक टीम ने जयपुर और दौसा में छापेमारी करते हुए करीब 2.25 लाख एमटीपी किट जब्त की हैं। इनकी कुल कीमत करीब 8.75 करोड़ रुपए है। जयपुर में खुंटेटा रेमडीज और दौसा में गोयल मेडिकल एजेंसी पर छापेमारी की गई। इन दोनों जगहों पर पिछले दो साल से यह अवैध कारोबार चल रहा था। 

ड्रग कंट्रोलर राजाराम शर्मा ने बताया कि जयपुर की खुंटेटा रेमेडीज अगस्त 2018 से सितम्बर 2020 तक एक्मे फॉरमोल्युएशन द्वारा निर्मित और पीएसआई इंडिया कंपनी की मार्केटेड दवाएं बेच रही थी। जयपुर सहित दौसा व अलवर में इन दवाओं की काफी बिक्री हुई। बिल भी सही नहीं थे।

एमपीटी किट 150 रुपए में आती है। मगर इसे बेचने के लिए प्रिस्क्रिप्शन जरूरी है, लेकिन धड़ल्ले से इसकी अवैध बिक्री होती है। एक किट के 800 रुपए तक लिए जाते हैं। गोयल मेडिकल एजेंसी, दौसा के पास दो लाख 10 हजार किट के कोई वैध क्रय बिल नहीं थे। विजय मेडिकल स्टोर, चम्पापुर, कालवाड़, तिलक मेडिकोज जयपुर को 22236 किट बेच बेचने के बिल बताए गए लेकिन जांच में सामने आया कि इस स्टोर पर तो एक भी किट नहीं गई। इसके अलावा श्रीराम मेडिकल स्टोर, अलवर के नाम से जो बिल काटे गए, वह स्टोर तो अलवर में है ही नहीं। 

गोयल मेडिकल एजेंसी के पास तो किट का कोई हिसाब ही नहीं था। इसी तरह खुटेटा रेमेडिज की ओर से बजाज फार्मा, दौसा को 14400 किट बेचने की बात कही गई, लेकिन जांच में सामने आया कि इस फर्म को तो कभी ड्रग विभाग की ओर से एमपीटी किट बेचने का लाइसेंस ही जारी नहीं किया गया।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:2 million abortion kits worth 9 crore recovered know how illegal business was going in Rajasthan