ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थान जयपुरसुनील जाखड़ का इस्तीफा: हरीश रावत बोले-सोनिया गांधी से बात करनी चाहिए थी, बताई ये वजह

सुनील जाखड़ का इस्तीफा: हरीश रावत बोले-सोनिया गांधी से बात करनी चाहिए थी, बताई ये वजह

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के इस्तीफे पर पहली बड़ी प्रतिक्रिया आई है। पंजाब के पूर्व प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि इस्तीफा देने से पहले सोनिया गांधी से बात करनी चाहिए थी।

सुनील जाखड़ का इस्तीफा: हरीश रावत बोले-सोनिया गांधी से बात करनी चाहिए थी, बताई ये वजह
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSat, 14 May 2022 07:28 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के इस्तीफे पर पहली बड़ी प्रतिक्रिया आई है। पंजाब के पूर्व प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि सुनील जाखड़ को इस्तीफा देने से पहले अपनी बात पार्टी नेता सोनिया गांधी से करनी चाहिए थी। ऐसा हो नहीं सकता की उनकी बात नहीं सुनी जाए। उन्हें अपनी बात उचित ढंग से रखनी चाहिए थी। सुनील जाखड़ पार्टी के महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं। हरीश रावत ने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से आरोप लगाए गए है। मैं आरोपों का कोई जवाब देना नहीं चाहता। उल्लेखनीय है कि सुनील जाखड़ ने आज कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। 

हाल में सभी पदों से हटा दिया था

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस ने हाल में अनुशासिनक कार्रवाई करते हुए सुनील जाखड़ को सभी पदों से हटा दिया था। सुनील जाखड़ ने कांग्रेस नेता अंबिका सोनी पर सीधा हमला बोला। अंबिका सोनी ने कांग्रेस का बेड़ा गर्क कर दिया। जाखड़ ने कहा कि चिंतिन शिविर से कुछ नहीं होगा। पार्टी में खुद सुधार करना होगा।  चिंतन नहीं, चिंता करने की आवश्यकता है। सुनील जाखड़ ने कहा कि उनके परिवार की तीन पीढ़ियों ने 50 साल तक कांग्रेस की सेवा की।  इसके बावजूद पार्टी लाइन पर नहीं चलने के लिए पार्टी के सभी पदों को छीन लिए जाने से मेरा दिल टूट गया। 

हरीश रावत पंजाब के प्रभारी रहे हैं

उत्तराखंड के पूर्व सीए हरीश रावत पंजाब के प्रभारी रहे हैं। पंजाब विधानसभा चुनाव से पूर्व हरीश रावत को हटा दिया गया था। राजस्थान के कांग्रेस नेता हरीश चौधरी को पंजाब का प्रदेश प्रभारी बनाया गया था। पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा। इसकी प्रमुख वजह पार्टी में गुटबाजी और खींचतान मानी जा रही है। चुनाव के बाद सोनिया गांधी ने नवजोत सिद्धू से प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा ले लिया। 

संबंधित खबरें

epaper