फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News पंजाबकौन हैं केजरीवाल की मुंह बोली बहन सिप्पी? लोकसभा चुनाव में देंगी चुनौती, 'भाई' से हैं नाराज

कौन हैं केजरीवाल की मुंह बोली बहन सिप्पी? लोकसभा चुनाव में देंगी चुनौती, 'भाई' से हैं नाराज

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले जब वह मोहाली में पानी की टंकी पर चढ़कर संघर्ष कर रही थीं तो आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने खुद वहां पर आकर उन्हें नीचे उतारा था।

कौन हैं केजरीवाल की मुंह बोली बहन सिप्पी? लोकसभा चुनाव में देंगी चुनौती, 'भाई' से हैं नाराज
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,संगरूरWed, 08 May 2024 05:55 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मुंहबोली बहन सिप्पी शर्मा ने संगरूर से लोकसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की है। वह यहां से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनावी मैदान में उतरेंगी। दरअसल सिप्पी शर्मा 646 बेरोजगार टीचर यूनियन की मेंबर है। स्थायी नौकरी के लिए उनकी यूनियन संघर्ष कर रही है। 

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले जब वह मोहाली में पानी की टंकी पर चढ़कर संघर्ष कर रही थीं तो आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने खुद वहां पर आकर उन्हें नीचे उतारा था। केजरीवाल ने उसे अपनी मुंहबोली बहन बनाया था और यूनियन की मांगें मानने का भरोसा दिया था। 

सिप्पी शर्मा ने बताया कि वह 646 बेरोजगार टीचर यूनियन की मेंबर है। साल 2021 में जब वह पक्की नौकरी की मांग को लेकर मोहाली में पानी की टंकी पर चढ़कर संघर्ष कर रही थी तो अरविंद केजरीवाल खुद वहां पर आए थे। साथ ही उन्हें बहन बनाकर नीचे उतारा था, लेकिन अभी तक उनकी सुनवाई नहीं हुई। जिस वजह से उन्हें संघर्ष की राह पर निकलना पड़ा है। यूनियन ने यह फैसला किया है कि वह संगरूर लोक सभा सीट से ही चुनाव लड़े।

सिप्पी शर्मा ने बताया कि उनकी यूनियन किसी राजनीतिक दल को समर्थन नहीं देगी। वह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेंगी। बता दें कि आम आदमी पार्टी (आप) ने संगरूर से गुरुमीत सिंह मीत हेयर को अपना उम्मीदवार बनाया है। फिलहाल संगरूर सीट से शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के सिमरनजीत सिंह मान वर्तमान सांसद हैं। 

सत्ता में आते ही भर्ती करने का वादा पूरा नहीं किया

सिप्पी शर्मा ने कहा कि पंजाब विधान सभा चुनाव से पहले उनसे अरविंद केजरीवाल ने वादा किया था कि सत्ता में आते ही उनकी भर्ती की जाएगी, लेकिन वादा सिरे नहीं चढ़ा। इसलिए आज वे विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर हैं। सत्ता में आने के बाद नौकरियां देना तो दूर, वे अब मिलने से भी कतराते हैं। मुंहबोले भाई अरविंद केजरीवाल ने उनसे किया वादा अभी तक पूरा नहीं किया। साल 2022 में संगरूर उप चुनाव के दौरान भी वह पानी की टंकी पर चढ़ कर विरोध कर रही थी।

तब पंजाब के कैबिनेट मंत्री मीत हेयर, विधायक नीना मित्तल ने वहां आकर उन्हें नीचे उतारा था और कहा था कि उनकी भर्ती जल्दी ही की जायेगी लेकिन उन्होंने भी अपना वादा पूरा नहीं किया। इसी तरह पंजाब के शिक्षा मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने भी हमें नौकरी देने का वादा किया था जो अब तक अधूरा है।

केजरीवाल के कार्यक्रम से पहले पुलिस ने लिया था हिरासत में

आठ महीने पहले आम आदमी पार्टी के संयोजक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अमृतसर में यहां पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ मिलकर स्कूल ऑफ एमिनेंस का उद्घाटन करने आए थे। तब वहीं कार्यक्रम में खलल पड़ने की आशंका से पंजाब पुलिस ने बेरोजगार अध्यापक यूनियन के नेताओं को हिरासत में लिया था, इनमें सिप्पी शर्मा भी शामिल थी। 

रिपोर्ट: मोनी देवी