फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पंजाबछोटे से लालच के लिए छोड़ दी कांग्रेस... पंजाब पीसीसी चीफ अमरिंदर सिंह वारिंग का सुनील जाखड़ पर निशाना

छोटे से लालच के लिए छोड़ दी कांग्रेस... पंजाब पीसीसी चीफ अमरिंदर सिंह वारिंग का सुनील जाखड़ पर निशाना

पंजाब पीसीसी चीफ अमरिंदर सिंह वारिंग ने कहा कि 50 वर्षों से कांग्रेस ने जाखड़ परिवार को सम्मान दिया लेकिन उन्होंने मामूली राजनीतिक लाभ के लिए पार्टी छोड़ दी।

छोटे से लालच के लिए छोड़ दी कांग्रेस... पंजाब पीसीसी चीफ अमरिंदर सिंह वारिंग का सुनील जाखड़ पर निशाना
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Wed, 13 Jul 2022 03:43 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पंजाब पीसीसी चीफ अमरिंदर सिंह राजा वारिंग ने बुधवार को अबोहर क्षेत्र के दौलतपुरा और दानेवाला सतकोसी गांवों में आयोजित अपनी पहली जनसभाओं में कांग्रेस के पूर्व नेता और अब भाजपा का दामन थाम चुके सुनील जाखड़ परिवार पर निशाना साधा। वारिंग ने कहा कि 50 वर्षों से कांग्रेस ने जाखड़ परिवार को सम्मान दिया लेकिन उन्होंने मामूली राजनीतिक लाभ के लिए पार्टी छोड़ दी। पार्टी सूत्रों के अनुसार, विधायक संदीप जाखड़ को वारिंग की बैठकों में कथित तौर पर आमंत्रित नहीं किया गया था।

दौलतपुरा में सरपंच हरप्रीत सिंह सिद्धू द्वारा आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए वारिंग ने कहा कि कांग्रेस ने पिछले 50 वर्षों में पंजकोसी स्थित जाखड़ परिवार को बहुत सम्मान दिया है, लेकिन सुनील जाखड़ ने मामूली राजनीतिक लाभ के लिए पार्टी छोड़ दी। पार्टी पंजाब में अभी भी मजबूत है और 2024 के आम चुनाव में गौरव बहाल करने की उम्मीद है। 

वारिंग ने कहा, “मैं भी कांग्रेस का एक छोटा कार्यकर्ता था और गलीचे बिछाता था। पार्टी ने मुझे यूथ कांग्रेस और मुख्यधारा के संगठन में सम्मानजनक स्थान देकर मेरा कद बढ़ाया। अब पार्टी ने मुझे राज्य में कांग्रेस के पुनर्गठन की जिम्मेदारी सौंपी है और मैं अपना काम ईमानदारी से करने की पूरी कोशिश करूंगा। उन्होंने हरप्रीत सिंह को खुइयांसरवर प्रखंड कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने की घोषणा की।

भगवंत मान सरकार पर निशाना
आम आदमी पार्टी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि लोगों ने संगरूर संसदीय उपचुनाव में दिल्ली से रिमोट कंट्रोल से चलाई जा रही राज्य सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा उतारा। भगवंत मान के नेतृत्व वाली सरकार ने किसानों को अकाली-भाजपा गठबंधन के 10 साल के कुशासन की याद दिला दी है।

epaper