Tuesday, January 18, 2022
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पंजाबकैप्टन अमरिंदर सिंह को दूर नहीं जाने देना चाहते चरणजीत सिंह चन्नी? मुलाकात से निकल रहे मायने

कैप्टन अमरिंदर सिंह को दूर नहीं जाने देना चाहते चरणजीत सिंह चन्नी? मुलाकात से निकल रहे मायने

लाइव हिन्दुस्तान ,चंडीगढ़Surya Prakash
Thu, 14 Oct 2021 07:16 PM
कैप्टन अमरिंदर सिंह को दूर नहीं जाने देना चाहते चरणजीत सिंह चन्नी? मुलाकात से निकल रहे मायने

इस खबर को सुनें

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी गुरुवार को अचानक ही पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह से मिलने उनके मोहाली स्थित फार्महाउस पर मिलने पहुंचे। फिलहाल कैप्टन अमरिंदर सिंह से उनकी मुलाकात का एजेंडा सामने नहीं आया है। सूत्रों का कहना है कि चरणजीत सिंह चन्नी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को साथ लाने के लिए यह पहल की है। कहा जा रहा है कि वह कैप्टन अमरिंदर सिंह को कांग्रेस से दूर नहीं जाने देना चाहते हैं। इसलिए उनकी इच्छा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को सक्रिय रखा जाए। बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह बीते कई दिनों से सुर्खियों से परे हैं। यही नहीं सीएम चन्नी के शपथग्रहण और फिर उनके बेटे की शादी से भी वह दूर थे।

कैप्टन ने सिद्धू पर किए हैं हमले, पर चन्नी पर हमेशा रहे हैं नरम

ऐसे में चरणजीत सिंह चन्नी के अचानक कैप्टन अमरिंदर से मुलाकात करने पहुंचने से कयास तेज हो गए हैं। ये कयास इसलिए भी तेज हैं क्योंकि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कभी भी सीएम चन्नी के खिलाफ टिप्पणी नहीं की थी। यही नहीं सिद्धू की ओर से प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दिए जाने के बाद भी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक तरह से चन्नी का ही समर्थन किया था। उनका कहना था कि नवजोत सिद्धू सीएम के कामकाज में दखल देना चाहते हैं और कोई भी इस बात को स्वीकार नहीं करेगा।

कैप्टन अमरिंदर और चन्नी की मुलाकात का वक्त भी है बेहद अहम

कैप्टन अमरिंदर सिंह से चरणजीत सिंह चन्नी की इस मुलाकात का वक्त भी खास है। एक ओर जहां नवजोत सिंह सिद्धू हाईकमान के सामने आज (गुरुवार) पेश होने वाले हैं तो उससे ठीक पहले चन्नी और कैप्टन की मुलाकात की खबरों ने सियासी पारा चढ़ा दिया है। प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू पहली बार हाईकमान से मुलाकात करेंगे। कहा जा रहा है कि इस दौरान पार्टी में सिद्धू के राजनीतिक भविष्य का फैसला भी हो सकता है। यदि नवजोत सिंह सिद्धू अपने तेवर ढीले नहीं करते हैं तो फिर हाईकमान उनके इस्तीफे को स्वीकार कर किसी नए नेता को प्रदेश अध्यक्ष की कमान दे सकता है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें