फोटो गैलरी

Hindi News पंजाबऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर स्वर्ण मंदिर में गूंजे खालिस्तानी नारे, दिखाए गए भिंडरावाले के पोस्टर

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर स्वर्ण मंदिर में गूंजे खालिस्तानी नारे, दिखाए गए भिंडरावाले के पोस्टर

ऑपरेशन ब्लू स्टार की 39वीं बरसी पर स्वर्ण मंदिर में खालिस्तानी नारे लगाने का मामला सामने आया है। श्री हरमंदिर साहिब में श्री अकाल तख्त पर खालिस्तान के नारे लगाए गए और देश विरोधी पोस्टर भी दिखाए गए।

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर स्वर्ण मंदिर में गूंजे खालिस्तानी नारे, दिखाए गए भिंडरावाले के पोस्टर
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Tue, 06 Jun 2023 12:30 PM
ऐप पर पढ़ें

Operation Blue Star 1984: ऑपरेशन ब्लू स्टार की 39वीं बरसी पर स्वर्ण मंदिर में खालिस्तानी नारे लगाने का मामला सामने आया है। श्री हरमंदिर साहिब में श्री अकाल तख्त पर खालिस्तान के नारे लगाए गए और खालिस्तानी आतंकवादी जरनैल सिंह भिंडरावाले के पोस्टर दिखाए गए। सिख कौम के नाम जारी संदेश में श्री अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सिख कौम को श्री अकाल तख्त की अगुवाई में एकजुट होने का आह्वान किया। स्वर्ण मंदिर में इस तरह की घटना से पुलिस और प्रशासन अलर्ट पर है। सूत्रों का कहना है कि सरकार घटनाक्रम पर पैनी नजर रखे हुए है।

आज ऑपरेशन ब्लू स्टार की 39वीं बरसी है। इसी दिन 1984 को सेना ने खालिस्तानी उपदेशक जरनैल सिंह भिंडरावाले और उसके समर्थकों को मार गिराया था। इन लोगों ने स्वर्ण मंदिर में हथियारों के साथ देश को दहलाने की साजिश रची थी। तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी के आदेश पर सेना ने अमृतसर में एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया, यह ऑपरेशन रात के अंधेरे में अंजाम दिया गया, इसलिए इसका नाम ऑपरेशन ब्लू स्टार रखा गया।

आज इस ऑपरेशन की 39वीं बरसी पर स्वर्ण मंदिर में एक बार फिर नापाक हरकत सामने आई है। जानकारी के अनुसार, स्वर्ण मंजिर में खालिस्तानी नारे लगाए गए हैं। इसके साथ ही खालिस्तानी आतंकवादी जरनैल सिंह भिंडरावाले के पोस्टर दिखाए गए। इस मौके पर श्री अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सिख कौम को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी कौम और धार्मिक संस्थाएं इस समय विभाजित है, इन्हें श्री अकाल तख्त की अगुवाई में इकट्ठा करना समय की जरूरत है। 

अकाली दलों और सिख संगठनों में दूर हों मतभेद
उन्होंने कहा कि एकता के लिए जरूरी है कि सिख संगठनों एवं अकाली दलों को मतभेद दूर करने होंगे। जत्थेदार ने बिखरी हुई शक्ति को एकजुट करके सरकारों के खिलाफ संघर्ष शुरू करने की घोषणा की। जत्थेदार ने कहा है कि सरकारों से न्याय की उम्मीद नहीं की जा सकती। सिखों को राजनीतिक तथा आर्थिक तौर से मजबूत होते हुए खुद ही इंसाफ के लिए संघर्ष शुरु करना पड़ेगा।

घाव बहुत गहरे
ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि सरकार ने जो घाव दिए हैं उन्हें कभी भुलाया नहीं जा सकेगा, ये घाव बहुत गहरे हैं और ये घाव कभी नहीं भरेंगे। सरकारों से कोई अपेक्षा रखना ठीक नहीं है। हमारे इतिहास में ऐसे कई उदाहरण हैं जिनमें गुरुओं ने कहा है कि शासन करना मूर्खता है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि हमारी शक्ति कम है बल्कि हमारी शक्ति बिखरी हुई है। 1984 के बाद हम आते हैं, झुकते हैं और चले जाते हैं लेकिन आज हमें मतभेदों से दूर होने की जरूरत है। 

गलत काम करने वाले बाहर हों
वहीं अकाली दल अमृतसर के प्रमुख सिमरनजीत सिंह मान ने कहा कि एसजीपीसी चुनाव के लिए सिख पंथ तैयारी करें और गलत काम करने वालों को एसजीपीसी के नेतृत्व से बाहर करें। सरबत खालसा के जत्थेदार ध्यान सिंह मंड ने कहा कि सिख विरोधियों की पहचान करनी होगी।

सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम
अमृतसर में ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर पुलिस की तरफ से श्री हरिमंदिर साहिब के आसपास सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। यहां अर्धसैनिक बल चार कंपनियां और भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें