DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पंजाब नवजोत सिंह सिद्धू: ‘जन्मजात कांग्रेसी’ ने दिया पार्टी को झटका, चुनाव से पहले पंजाब में फंसा दिया पेच?

नवजोत सिंह सिद्धू: ‘जन्मजात कांग्रेसी’ ने दिया पार्टी को झटका, चुनाव से पहले पंजाब में फंसा दिया पेच?

एजेंसी,चंडीगढ़Shankar Pandit
Wed, 29 Sep 2021 08:46 AM
 नवजोत सिंह सिद्धू: ‘जन्मजात कांग्रेसी’ ने दिया पार्टी को झटका, चुनाव से पहले पंजाब में फंसा दिया पेच?

अपने आप को ‘जन्मजात कांग्रेसी’ कहने वाले पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर पार्टी को झटका दे दिया है। करीब पांच साल पहले सिद्धू जब भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे, तो उन्होंने खुद को अपनी जड़ों की ओर लौटने वाला ‘जन्मजात कांग्रेसी’ बताया था। सिद्धू को 18 जुलाई को पंजाब कांग्रेस की कमान सौंपी गई थी। उनके प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद के घटनाक्रम के दौरान राज्य में पार्टी के कद्दावर नेता अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़ गया। नये मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी द्वारा राज्य की कमान संभालने के कुछ ही दिन बाद 57 वर्षीय सिद्धू ने अचानक पार्टी की प्रदेश इकाई की जिम्मेदारी छोड़कर सभी को चौंका दिया। उन्होंने यह कदम ऐसे समय में उठाया है जब राज्य में विधानसभा चुनाव में पांच महीने से भी कम समय बचा है। ऐसे में पार्टी मुश्किलों में फंसती नजर आ रही है। 

कहा था, किसी भी नेता के अधीन काम करने को तैयार
सिद्धू 2017 के पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे। तब उन्होंने कहा था कि वह आलाकमान द्वारा नियुक्त किसी भी नेता के अधीन काम करने को तैयार रहेंगे। पार्टी जहां से चाहे, वहां से वह चुनाव लड़ेंगे। जब सिद्धू से उस वक्त पूछा गया था कि क्या वह पार्टी के मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनना चाहते हैं तो उन्होंने जवाब दिया था कि इस बारे में बातचीत करना जल्दबाजी होगी।

सिद्धू के पिता थे कांग्रेस जिलाध्यक्ष
क्रिकेटर, कमेंटेटर, टीवी प्रस्तोता जैसी अनेक भूमिकाएं निभाने वाले सिद्धू चार बार सांसद भी रह चुके हैं। हमेशा कहते रहे हैं कि उनके लिए पंजाब पहले आता है। सिद्धू के पिता भगवंत सिंह पटियाला में कांग्रेस के जिला अध्यक्ष रहे थे। भगवंत अपने बेटे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट खेलते देखना चाहते थे। सिद्धू ने 1981-82 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया था। फिर अपनी धुआंधार बल्लेबाजी के लिए लोकप्रिय भी हुए।

पहले चुनाव में ही दर्ज की थी जीत
सिद्धू ने 2004 में अमृतसर से भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव जीतकर राजनीतिक पारी शुरू की। उन्होंने पहले ही चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज आरएल भाटिया को हराया था। भाजपा में रहते हुए भी सिद्धू के सहयोगी अकाली दल के बादल परिवार से खटास भरे रिश्ते रहे थे, लेकिन जब भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में अरुण जेटली को अमृतसर से उतारा तो उनके भाजपा से भी रिश्ते तनावपूर्ण हो गए। उन्हें भाजपा ने राज्यसभा में भेजा लेकिन वह पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए। सिद्धू की एक समारोह में पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से गले मिलने की तस्वीरें आने के बाद चहुंओर काफी आलोचना हुई थी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें