फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News पंजाबकैप्टन अमरिंदर सिंह की मौत की उड़ी अफवाह, पूर्व सीएम बोले- यह झूठ है, बस पेट में संक्रमण था

कैप्टन अमरिंदर सिंह की मौत की उड़ी अफवाह, पूर्व सीएम बोले- यह झूठ है, बस पेट में संक्रमण था

इसे अफवाह बताते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर जानकारी दी कि यह सब झूठ है। ऐसी कोई बात नहीं है और वे ठीक हैं, लेकिन पेट में संक्रमण के कारण डॉक्टरों ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह की मौत की उड़ी अफवाह, पूर्व सीएम बोले- यह झूठ है, बस पेट में संक्रमण था
Niteesh Kumarमोनी देवी, लाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Sat, 01 Jun 2024 09:36 PM
ऐप पर पढ़ें

पंजाब में लोकसभा चुनाव के मतदान के दिन पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की मौत की अफवाह उड़ने से सनसनी फैल गई। कई लोगों ने सोशल मीडिया पर कैप्टन की फोटो के नीचे यह लिख कर अपलोड कर दिया गया कि कैप्टन अमरिंदर सिंह नहीं रहे। इसे अफवाह बताते हुए खुद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर जानकारी दी कि यह सब झूठ है। ऐसी कोई बात नहीं है और वे ठीक हैं, लेकिन पेट में संक्रमण के कारण डॉक्टरों ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है। इसके चलते वह अपनी पत्नी और भाजपा प्रत्याशी परनीत कौर के पक्ष में वोट करने के लिए भी पटियाला नहीं आ सके। पटियाला स्थित उनके आवास न्यू मोती बाग पैलेस के प्रवक्ता एकजोत सिंह ने भी इसे कैप्टन अमरिंदर सिंह के बारे में फैलाई गई कोरी अफवाह करार दिया।

पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी परनीत कौर भाजपा की टिकट पर पटियाला से चुनाव लड़ रही हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने फरवरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने ऐलान किया कि वह आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। कैप्टन ने चुनाव न लड़ने की घोषणा करते हुए खुद कहा था कि इस बार भी परनीत कौर पटियाला की सीट से चुनाव लड़ेंगी। जल्द ही परनीत कौर औपचारिक रूप से भाजपा का दामन थामेंगी। ऐसा ही हुआ भी। कांग्रेस से निष्का​षित होने के बाद परनीत कौर ने भाजपा का दामन थामा और उन्हें पटियाला से टिकट मिली। 

चुनाव परिदृश्य से गायब रहे कैप्टन अमरिंदर 
कैप्टन अमरिंदर सिंह इस बार लोकसभा चुनाव में परिदृश्य से गायब रहे थे। प्रधानमंत्री मोदी की पटियाला में परनीत कौर समेत 5 भाजपा प्रत्याशियों के प्रचार रैली में भी वह नहीं पहुंचे थे। हालांकि, मोदी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा था कि हाईकमान का कहा नहीं मानने पर शहजादे ने कैप्टन को सीएम पद से हटा दिया था। 81 वर्षीय कैप्टन उम्र और स्वास्थ्य के कारण राजनीतिक परिदृश्य से गायब रहे।

कांग्रेस छोड़ बनाई नई पार्टी, फिर भाजपा में शामिल
कांग्रेस छोड़कर 2022 के पंजाब विधानसभा चुनाव में जब कैप्टन अलग पार्टी बनाकर चुनावी मैदान में उतरे तो कैप्टन को हार का मुंह का देखना पड़ा था। इसके बाद वह भाजपा में शामिल हो गए थे। सितंबर 2023 में  कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोनिया गांधी से मुलाकात की, जिसके बाद अटकलें लगने लगी कि कैप्टन फिर से कांग्रेस में वापसी करने वाले हैं। इन सभी राजनीतिक अटकलों पर विराम लगाते हुए कैप्टन ने कहा था कि उन्होंने हमेशा के लिए मन बना लिया है वो बीजेपी में ही रहने वाले हैं। वो बीजेपी के प्रति प्रतिबद्ध रहेंगे। उन्होंने कहा था कि उनके जीवन का सिद्धांत है कि वो एक बार लिया हुआ निर्णय कभी वापस नहीं लेते।