फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News पंजाबकुलविंदर के साथ अन्याय बर्दाश्त नहीं, कंगना के खिलाफ उतरे किसान; आज मोहाली में जुटेंगे

कुलविंदर के साथ अन्याय बर्दाश्त नहीं, कंगना के खिलाफ उतरे किसान; आज मोहाली में जुटेंगे

किसान नेताओं ने कहा कि कंगना रनौत को थप्पड़ मारने की घटना की पारदर्शी जांच की जरूरत है क्योंकि अभी तक सिर्फ कंगना रनौत का ही पक्ष सुना जा रहा है। आज सुबह 11 बजे मोहाली में इकट्ठा होंगे।

कुलविंदर के साथ अन्याय बर्दाश्त नहीं, कंगना के खिलाफ उतरे किसान; आज मोहाली में जुटेंगे
kangana ranaut slap news woman cisf constable suspend fir she says farmers sitting for rs 100 my mot
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,मोहालीSat, 08 Jun 2024 12:08 AM
ऐप पर पढ़ें

हिमाचल की मंडी सीट से चुनाव जीतकर भाजपा की सांसद बनीं कंगना रनौत को चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर थप्पड़ मारने वाली सीआईएसएफ गार्ड कुलविंदर कौर के ​खिलाफ केस दर्ज होने से किसान संगठन भड़क गए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा द्वारा किसान भवन चंडीगढ़ में संयुक्त प्रैस कॉन्फ्रेंस की गई। इस मौके पर जगजीत सिंह डल्लेवाल, सरवन सिंह पंधेर, अभिमन्यु कोहाड़, गुरिंद्र सिंह भंगू, अमरजीत सिंह मोहरी, सुखजीत सिंह हरदोंगंढे व जसविंद्र लोंगोवाल मौजूद रहे। किसान नेताओं ने कहा कि कंगना रनौत को थप्पड़ मारने की घटना की पारदर्शी जांच की जरूरत है क्योंकि अभी तक सिर्फ कंगना रनौत का ही पक्ष सुना जा रहा है। किसान नेताओं ने कहा कि अगर कुलविंदर कौर के साथ कोई अन्याय हुआ तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और पूरे मामले की ईमानदार और पारदर्शी जांच के लिए पंजाब-हरियाणा से बड़ी संख्या में किसान आज सुबह 11 बजे मोहाली में इकट्ठा होंगे। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि किसान 9 जून को गुरुद्वारा श्री अंब साहिब में एकत्रित होकर पैदल एस.एस.पी. मोहाली के कार्यालय तक मार्च करेंगे और एक मांग पत्र सौंपेंगे। 

पंजाब के डी.जी.पी. से मिले किसान

कुलविंदर कौर-कंगना रनौत मामले को लेकर आज संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा के नेताओं ने पंजाब के डी.जी.पी. गौरव यादव से भी मुलाकात की और मांग की कि पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की जाए। पंजाब के डी.जी.पी. ने आश्वासन दिया कि पूरे मामले की निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से जांच की जाएगी और कुलविंद्र कौर के साथ किसानों के प्रतिनिधिमंडल की बैठक जल्द करवाने का प्रयास किया जाएगा।

किसान और खेत मजदूरों की मांगों की अनदेखी पड़ी भाजपा को भारी: डल्लेवाल

किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा किसानों पर किए जा रहे अत्याचार और 850 किसानों की शहादत के कारण भाजपा को चुनावी नुक्सान उठाना पड़ा। किसान नेताओं ने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव की तुलना में 2024 के चुनाव में भाजपा ने ग्रामीण क्षेत्रों में 71 सीटें अधिक गंवाई हैं। इससे स्पष्ट संदेश जाता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले किसान और मजदूर भाजपा की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ हैं। महाराष्ट्र की प्याज बेल्ट की 14 में से 13 सीटों पर एन.डी.ए. को करारी हार का सामना करना पड़ा है क्योंकि केंद्र सरकार ने प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिसके कारण हर प्याज उत्पादक किसान को 3-3 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। भविष्य में आंदोलन हरियाणा और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में फैलेगा, जिसके लिए रणनीति बनाई जा रही है। 

पंजाबियों को आतंकवादी कहने पर हरसिमरत कौर बादल ने कड़ी आपत्ति जताई 
 
वहीं, बठिंडा से नवनिर्वाचित अकाली सांसद हरसिमरत कौर बादल ने पंजाबियों को आतंकवादी या उग्रवादी कहे जाने पर कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि किसी को भी पंजाबियों के बारे में ऐसी बातें कहने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। पंजाबी देशभक्ति में सबसे आगे हैं और वे सीमाओं पर देश की सेवा करने वाले व अन्नदाता के रूप में देशभक्ति निभा रहे हैं। हरसिमरत कौर बादल ने केंद्र सरकार से किसानों की समस्याओं का समाधान करने की भी अपील की। वहीं, अकाली दल नेता बिक्रम मजीठिया का बयान भी सामने आया है। मजीठिया ने कहा है कि वह कुलविंदर कौर की भावनाओं और संवेदनाओं की कद्र करते हैं और हर तरह से कुलविंदर कौर के साथ खड़े हैं। किसानों का दर्द आज भी पंजाबियों के मन में है। 3 कृषि बिलों के विरोध में 700 से अधिक किसानों ने अपनी जान दे दी, लेकिन कंगना रनौत ने पंजाबियों और विशेष रूप से महिलाओं के खिलाफ जहर उगला।

रूपनगर में महिला किसानों ने मनाया लफेड़ा दिवस, कंगना का पोस्टर फूंका

भाजपा सांसद कंगना रनौत का पूरे पंजाब में विरोध हो  रहा है। वहीं, कंगना को थप्पड़ मारने वाली सीआईएसएफ जवान कुलविंदर कौर का समर्थन किया जा रहा है। रूपनगर में कीर्ति किसान यूनियन की महिला सदस्यों ने कंगना रनौत के विरोध में उनका पोस्टर जलाया और इस विरोध काे लफेड़ा दिवस नाम दिया। प्रदर्शन करने वाली कीर्ति किसान मोर्चा की वही महिलाएं हैं, जिन्होंने 3 दिसंबर 2021 को कीरतपुर साहिब के पास कंगना रनौत की गाड़ी को घेर लिया था और किसान आंदोलन और किसानों पर टिप्पणी करने पर माफी मंगवाने के बाद ही जाने दिया था।

रिपोर्ट: मोनी देवी