फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पंजाबकैलिफोर्निया में पकड़ा गया गोल्डी बराड़, सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का है मास्टरमाइंड

कैलिफोर्निया में पकड़ा गया गोल्डी बराड़, सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का है मास्टरमाइंड

पंजाबी गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का मास्टरमाइंड गोल्डी बराड़ को कैलिफोर्निया में हिरासत में लिया गया है।

कैलिफोर्निया में पकड़ा गया गोल्डी बराड़, सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का है मास्टरमाइंड
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तानFri, 02 Dec 2022 07:43 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पंजाबी गायक और राजनेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड गोल्डी बराड़ को कैलिफोर्निया में हिरासत में लिया गया है। इंडिया टुडे ने अपनी एक रिपोर्ट में भारत की खुफिया एजेंसियों के सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है। भारत की खुफिया एजेंसियों को अंतरराष्ट्रीय सूत्रों से यह बड़ा इनपुट मिला है। हालांकि अभी तक इस मामले में कैलिफोर्निया सरकार की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

खुफिया विभाग रॉ, आईबी, दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल और पंजाब इंटेलिजेंस को ऐसे इनपुट जरूर मिले हैं कि गोल्डी बराड़ वहीं है और उसे हिरासत में लिया गया है।

कौन है गोल्डी बराड़?
गोल्डी बराड़ का असली नाम सतिंदरजीत सिंह है। वह महज 28 साल की उम्र का है। बराड़ पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब में पैदा हुआ था और वह भारतीय नागरिक है। 2017 में एक छात्र के तौर पर वह भारत से कनाडा पहुंचा था। गोल्डी के खिलाफ भारत में हत्या की कोशिश, हत्या, आपराधिक साजिश, अवैध फायरआर्म्स की आपूर्ति आदि जैसे गंभीर आरोप हैं। बराड़ को मूसेवाला की हत्या का मास्टरमांइड भी माना जाता है।

मूसेवाला के हत्यारे को फोन पर दे रहा था निर्देश
मूसेवाला हत्याकांड की गुत्थी अभी तक पूरी तरह से सुलझ नहीं पाई है। घटना को लेकर कई नई जानकारियां सामने आ चुकी हैं। कहा जाता है कि कनाडा में बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ मुख्य शूटर से बराबर संपर्क में था और फोन पर लगातार निर्देश दे रहा था। फोन कॉल के जरिए हुई बातचीत की कुछ रिकॉर्डिंग सामने आई थी।

शूटर और गोल्डी बराड़ के बीच हुई फोन पर बातचीत से पता चलता है कि 28 मई की दोपहर में मूसेवाला की सुरक्षा में कटौती के आदेश आते ही हत्यारे घटना को अंजाम देने के लिए तेजी से एक्टिव हो गए थे। पंजाबी सिंगर की हत्या के एक दिन पहले यानी 28 मई को घटना में शामिल मुख्य शूटर प्रियव्रत उर्फ फौजी के पास गोल्डी बराड़ का फोन आया था।