DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   पंजाब  ›  सिंघु बॉर्डर पर आंदोलनकारी किसानों पर फायरिंग, कार से आए 4 लोग गोलियां चलाकर भागे

पंजाबसिंघु बॉर्डर पर आंदोलनकारी किसानों पर फायरिंग, कार से आए 4 लोग गोलियां चलाकर भागे

हिन्दुस्तान ,नई दिल्लीPublished By: Surya Prakash
Mon, 08 Mar 2021 12:48 PM
सिंघु बॉर्डर पर आंदोलनकारी किसानों पर फायरिंग, कार से आए 4 लोग गोलियां चलाकर भागे

राजधानी दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर किसान आंदोलन में डटे लोगों पर फायरिंग की घटना सामने आई है। रविवार रात को अचानक कुछ लोग कार से आए और फायरिंग करके भाग गए। इस कार में तीन लोग सवार थे, जिन्होंने किसानों को निशाना बनाते हुए फायरिंग की। द ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना रविवार रात की है और चंडीगढ़ नंबर की एक कार पर सवार होकर कुछ लोग आए थे। सफेद रंग की ऑडी कार से उतरे लोगों ने आंदोलनकारी किसानों को निशाना बनाते हुए फायरिंग की और भाग गए। इस घटना में किसी किसान को चोट नहीं आई है। यह घटना सिंघु बॉर्डर के पास टीडीआई मॉल के पास हुई थी। पुलिस का कहना है कि फायरिंग करने वाले आरोपी किसान शायद पंजाब के रहने वाले हैं।

सिंघू बॉर्डर पर बीते साल 26 नवंबर से आंदोलनकारी किसान डटे हुए हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक यह घटना रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात को 2 बजे हुई। पुलिस का कहना है कि फायरिंग करने वाले लोग पंजाब या चंडीगढ़ के हो सकते हैं। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि वे जिस कार से आए थे, वह चंडीगढ़ के नंबर की थी।

घटना की जानकारी मिलते ही हरियाणा के कुंडली से पुलिस पहुंची और मामले की जांच शुरू की। फिलहाल पुलिस आसपास की सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है और कार में सवार लोगों के बारे में जानने की कोशिश कर रही है। इस कोशिश के तहत आसपास के टोल प्लाजा की सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस खंगाल रही है।

किसान बोले, एक्शन न हुआ तो जाम करेंगे और सड़कें: इस बीच आंदोलनकारी किसानों का कहना है कि ऐसा एक साजिश के तहत किया गया है ताकि हमारे शांतिपूर्ण आंदोलन को बदनाम किया जा सके। यही नहीं किसानों ने कहा कि यदि पुलिस ने फायरिंग करने वाले अराजक तत्वों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया तो वे दूसरे रास्तों को भी ब्लॉक करना शुरू कर देंगे। बता दें कि पंजाब और हरियाणा के हजारों किसान सिंघु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर पर डटे हुए हैं। इसके अलावा यूपी गेट पर दिल्ली और उत्तर प्रदेश की सीमा पर यूपी, उत्तराखंड और बिहार जैसे राज्यों के किसान डटे हुए हैं।

संबंधित खबरें