फोटो गैलरी

Hindi News पंजाबकिसानों का दिल्ली कूच, हाई अलर्ट पर हरियाणा; हरकत में आईं सरकारें

किसानों का दिल्ली कूच, हाई अलर्ट पर हरियाणा; हरकत में आईं सरकारें

हरियाणा में कानून-व्यवस्था के हालातों को लेकर वीरवार शाम को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने निवास पर उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में गृह मंत्री अनिल विज भी शामिल रहे।

किसानों का दिल्ली कूच, हाई अलर्ट पर हरियाणा; हरकत में आईं सरकारें
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Fri, 09 Feb 2024 12:09 AM
ऐप पर पढ़ें

पंजाब के किसान संगठनों के 13 फरवरी को दिल्ली कूच की घोषणा के बाद पंजाब व हरियाणा सरकारें हरकत में आ गई हैं। चंडीगढ़ में किसान नेताओं, केंद्रीय मंत्रियों और पंजाब सीएम भगवंत मान के बीच बैठक हुई। वहीं प्रदेश में कानून-व्यवस्था के हालातों को लेकर वीरवार शाम को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने निवास पर उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में गृह मंत्री अनिल विज के अलावा डी.जी.पी. शत्रुजीत कपूर और सी.आई.डी. चीफ आलोक मित्तल मौजूद थे। बैठक में मुख्यमंत्री ने डी.जी.पी. से तैयारियों का फीडबैक लिया। डी.जी.पी. ने मुख्यमंत्री और गृह मंत्री को अवगत करवाया कि किसी भी तरह से राज्य में शांति भंग नहीं होने देंगे और पंजाब की सीमाओं पर किसानों को रोकने के लिए खास बंदोबस्त किए जा रहे हैं।

पंजाब-हरियाणा बॉर्डर सील, सेना, पैरामिलिट्री फोर्स तैनात
13 फरवरी को किसान आंदोलन की चेतावनी के बाद हरियाणा सरकार ने कमर कस ली है। जीटी रोड समेत पंजाब के साथ लगते जिलों के एसपी को अलर्ट कर दिया गया है। हरियाणा सरकार ने फैसला लिया है कि अंबाला में शंभू बॉर्डर को सील किया जाएगा। पंजाब से आने वाले वाहनों का रूट डाइवर्ट किया जाएगा। यहां पर सेना के साथ-साथ पैरामिलिट्री फोर्स और जिला पुलिस के जवान तैनात होंगे।

किसान आंदोलन को लेकर डीजीपी शत्रुजीत कपूर और सीआईडी प्रमुख आलोक मित्तल पूरी नजर रखे हैं। सोनीपत में धारा 144 लगा दी गई है। हरियाणा के डी.जी.पी. शत्रुजीत कपूर ने किसानों के दिल्ली कूच पर कहा कि हम प्रदेश में किसी भी तरह से शांति भंग नहीं होने देंगे। हरियाणा पुलिस पूरी तरह से तैयार है। अर्धसैनिक बलों की 50 कंपनियां हमें मिल चुकी है और हर जिले में कानून-व्यवस्था को लेकर तैयारी की जा रही है।

किसान आंदोलन की कॉल को लेकर पंजाब से कोई इंटीमेशन नहीं : विज
मीटिंग से बाहर आने के बाद गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ प्रदेश के कानून-व्यवस्था को लेकर चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि किसान आंदोलन की कॉल है, लेकिन अभी तक पंजाब की ओर से हमें कोई इंटीमेशन नहीं दिया है।

पंजाब सरकार व किसान संगठनों की ओर से हरियाणा को यह नहीं बताया गया कि कितने लोग आएंगे, कब आएंगे और कैसे आएंगे। जो हमारे पास किसान आंदोलन को लेकर इनपुट आया है हम उसके हिसाब से तैयारियां कर रहे हैं। जिलों में धारा 144 लगाए जाने के सवाल पर विज ने कहा है कि नहीं ऐसा कहीं नहीं किया गया है। यदि किसी जिले में धारा 144 लगी भी होगी तो अन्य कारणों से लगाई गई होगी।

रिपोर्ट: मोनी देवी

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें