फोटो गैलरी

Hindi News पंजाबमोहाली में लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गों और पुलिस के बीच मुठभेड़; एक के पैर में लगी गोली, दूसरा फरार

मोहाली में लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गों और पुलिस के बीच मुठभेड़; एक के पैर में लगी गोली, दूसरा फरार

जीरकपुर में फायरिंग दौरान एक शूटर के पैर में गोली लगी। शूटर मंजीत उर्फ गुरी को गिरफ्तार कर लिया गया जबकि उसका एक साथी भागने में कामयाब रहा। टीम ने इसके पास से 2 हथियार बरामद किए हैं।

मोहाली में लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गों और पुलिस के बीच मुठभेड़; एक के पैर में लगी गोली, दूसरा फरार
Niteesh Kumarमोनी देवी, लाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Mon, 06 Nov 2023 11:58 PM
ऐप पर पढ़ें

मोहाली के जीरकपुर में सोमवार को गैंगस्टरों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई। मोहाली पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स और लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गैंगस्टरों के बीच यह घटना वीआईपी रोड के पास की है। फायरिंग दौरान एक शूटर के पैर में गोली लगी। शूटर मंजीत उर्फ गुरी को गिरफ्तार कर लिया गया जबकि उसका साथी भागने में कामयाब रहा। टीम ने इसके पास से 2 हथियार बरामद किए हैं। इनमें .32 और .30 बोर के वेपन शामिल हैं। 

पुलिस ने बताया कि दोनों युवक बाइक पर जा रहे थे। पुलिस ने रुकने का इशारा किया तो वे भाग निकले और फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। इस दौरान एक शूटर को काबू कर लिया गया है। दोनों शूटरों का गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई के साथ संबंध बताया जा रहा है। डीएसपी विक्रम बराड़ ने बताया कि दोनों शूटर एक बड़े बिल्डर की हत्या करने जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें पहले ही दबोच लिया। गिरफ्तार आरोपी से पूछताछ चल रही है और कई खुलासे होने की संभावना है।

बिजनेसमैन को करते थे टारगेट 
एसपी मनप्रीत सिंह ने बताया कि पकड़ा गया गैंगस्टर मनप्रीत सिंह उर्फ गुरी गोल्डी बराड़ गैंग के लिए मोहाली में काम करता है। बिजनेसमैन उसके टारगेट पर होते थे। मनप्रीत उर्फ गुरी का टारगेट राजनेताओं के बिजनेस से जुड़े लोगों को टारगेट करना है, जो पहले फिरौती के लिए विदेशी नंबरों से धमकी भरे फोन करवाता है। जब कोई उसकी धमकी को नजरअंदाज करता है तो उसके ऊपर हवाई फायरिंग करके फिरौती देने के लिए दबाव बनाने का काम करता है। मोहाली में वह ब्रियू बाऊंज क्लब के बाहर भी हवाई फायरिंग कर चुका है। उसने मोहाली सिटी सैंटर और सर्राफ ज्वैलर के मालिक से विदेशी नंबर से धमकी भरा फोन करके लाखों रुपये की रंगदारी मांगी थी।

4 दिन पहले जीरकपुर के होटल में हुई थी मुठभेड़
जीरकपुर गैंगस्टरों के छिपने का सुरक्षित स्थान बन गया है। 4 दिन पहले यहीं के होटल में पुलिस और अर्श डल्ला गैंग के गैंगस्टरों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इसमें एक बदमाश लवप्रीत को गोली लगी थी। इसके बाद उसे 2 और साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। गैंगस्टर लवप्रीत सिंह और उसके साथी बठिंडा में व्यापारी की हत्या को अंजाम देकर मंगलवार को जीरकपुर पहुंचकर होटल में रुके थे। वारदात में इस्तेमाल की गई मोटरसाइकिल किसी अन्य जगह पर खड़ी करके वे दूसरी मोटरसाइकिल से आए थे। आरोपियों ने जीरकपुर में रुकने के लिए होटल में परमजीत निवासी मानसा की आईडी दी थी, जो फर्जी थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें