फोटो गैलरी

Hindi News पंजाबसनी देओल बॉर्डर के पार ही हैंडपंप उखाड़ सकते हैं, सांसद पर भड़के सीएम भगवंत मान

सनी देओल बॉर्डर के पार ही हैंडपंप उखाड़ सकते हैं, सांसद पर भड़के सीएम भगवंत मान

सीएम भगवंत मान ​रविवार को जिला पठानकोट में सरकार-व्यापारी मिलनी में पहुंचे। उन्होंने मिलनी में व्यापारियों के साथ संवाद किए। इस दौरान उन्होंने भाजपा नेता व पठानकोट के सांसद सनी देओल पर निशाना साधा।

सनी देओल बॉर्डर के पार ही हैंडपंप उखाड़ सकते हैं, सांसद पर भड़के सीएम भगवंत मान
Deepakलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Sun, 25 Feb 2024 08:02 PM
ऐप पर पढ़ें

सीएम भगवंत मान ​रविवार को जिला पठानकोट में सरकार-व्यापारी मिलनी में पहुंचे। उन्होंने मिलनी में व्यापारियों के साथ संवाद किए। इस दौरान उन्होंने भाजपा नेता व पठानकोट के सांसद सनी देओल पर तीखा निशाना साधा। उन्होंने कहाकि वह बॉर्डर के पार ही नलका उखाड़ सकते हैं, यहां तो कभी नलका लगाया ही नहीं। उन्होंने सनी देओल से कहाकि राजनीति 9 से 5 की नौकरी नहीं, बल्कि 24 घंटे की ड्यूटी है। अब ढाई किलो का हाथ एक किलो का रह गया है। उन्होंने कहा कि सनी देओल क्षेत्र तो क्या संसद में भी नहीं आए। 

मैंने कभी उन्हें संसद में नहीं देखा
सीएम मान ने पठानकोट की जनता से कहा कि कभी यह देख लिया करो कि सांसद आएगा या नहीं। उन्होंने आगे कहा कि मैं 2014 से 2022 तक सांसद रहा। 2019 में सनी देओल सांसद बने, मगर 2022 तक मैंने कभी उन्हें संसद में नहीं देखा। मान ने कहा कि लोग वोट रब मानकर देते हैं। शहीद भगत सिंह, राजगुरु, करतार सिंह सराभा और लाला लाजपत राय ने वोट देने का अधिकार दिया है। उन्होंने वोट सोच समझकर देने की अपील की।

मुख्यमंत्री मान ने व्यापारियों से संवाद करते हुए कहाकि अब सरकार गांव व कस्बों से चल रही है, पहले चंडीगढ़ से चलती थी। पहले चंडीगढ़ जाने के लिए 6 से 7 हजार रुपए चाहिए होते थे लेकिन उन्होंने अब सभी टोल प्लाजा बंद करवा दिए हैं। सीएम मान ने कहाकि अभी उनकी आंख नेशनल हाईवे वाले टोल प्लाजा पर है। उन्होंने कहाकि वह यहां कोई राजनीतिक रैली करने नहीं आए हैं। वह किसी को शक्ति प्रदर्शन करके किसी को नीचा दिखाने नहीं आया। उन्होंने कहाकि सरकार का मतलब लोगों की समस्याओं को सुनना है। अगर वोट मांगने के लिए घर-घर जा सकते हैं तो लोगों की समस्याएं सुनने के लिए क्यों नहीं। उन्होंने कहाकि चंद्रयान श्री हरिकोटा से कंट्रोल हो सकता है तो पठानकोट के व्यापारियों का चंडीगढ़ आए बिना काम क्यों नहीं हो सकता।

(रिपोर्ट: मोनी देवी)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें