Saturday, January 22, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पंजाबराजनीति के 'जयचंद' और 'फूंके हुए कारतूस' हैं अमरिंदर; कैप्टन को ये क्या-क्या बोल गए सिद्धू

राजनीति के 'जयचंद' और 'फूंके हुए कारतूस' हैं अमरिंदर; कैप्टन को ये क्या-क्या बोल गए सिद्धू

भाषा,चंडीगढ़Shankar Pandit
Thu, 28 Oct 2021 07:43 AM
राजनीति के 'जयचंद' और 'फूंके हुए कारतूस' हैं अमरिंदर; कैप्टन को ये क्या-क्या बोल गए सिद्धू

इस खबर को सुनें

पंजाब में कांग्रेस से अलग राह पकड़ने का ऐलान कर चुके अमरिंदर सिंह पर नवजोत सिंह सिद्धू ने बड़ा हमला किया है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि वह 'फूंके हुए कारतूस' और राज्य की राजनीति के 'जयचंद' हैं। दोनों नेताओं के बीच ट्विटर पर भिडंत देखने को मिली। 

अमरिंदर सिंह ने कहा कि अगर सिद्धू प्रदेश कांग्रेस को बर्बाद करने पर आमादा हैं तो वह उनके काम को आसान बना रहे हैं। अमरिंदर सिंह ने बुधवार को कहा कि वह एक नई पार्टी बना रहे हैं और इसके नाम व चुनाव चिह्न को निर्वाचन आयोग की मंजूरी मिल जाने पर वह इसकी घोषणा करेंगे। साथ ही, उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस के कई लोग उनसे संपर्क में हैं। सिंह ने पिछले महीने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था। 

नवजोत सिंह सिद्धू ने पूर्व मुख्यमंत्री को 'जयचंद' करार देते हुए कहा कि वह मुख्यमंत्री के तौर पर भाजपा तथा अकाली दल के साथ मिले हुए थे। उन्होंने ट्वीट किया, 'क्या आपको सुशासन के कारण बड़े बेआबरू होकर हटना पड़ा?...आपको पंजाब के राजनीतिक इतिहास के जयचंद के रूप में याद किया जाएगा। आप निश्चित तौर पर एक फूंके हुए कारतूस हैं।' 

सिद्धू ने सवाल किया, 'क्या यह तुच्छ बात थी कि आपको जवाबदेह ठहराने के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया गया? विधायक आपके खिलाफ क्यों थे? क्योंकि हर कोई जानता था कि आप बादल परिवार से मिले हुए हैं। आप मुझे हराना चाहते हैं। क्या आप पंजाब को जिताना चाहते थे?' उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने पहले भी अपनी पार्टी बनाई थी और चुनाव लड़ने पर उन्हें सिर्फ 856 वोट मिले। 

इस पर जवाब देते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा, 'सिद्धू, बेवकूफी भरी बातें करना आपकी आदत हो गई है। आप जिन 856 वोटों का मजाक बना रहे हैं वो मुझे खरड़ (क्षेत्र) से नामांकन वापस लेने के बाद मिले थे क्योंकि मैं समाना से निर्विरोध जीत गया था। इसमें क्या बात है या फिर आपको बात समझ नहीं आती।' उन्होंने यह भी कहा कि सिद्धू को उन पर हमला करने में समय जाया करने की बजाय अपने काम पर ध्यान देना चाहिए।

epaper

संबंधित खबरें