फोटो गैलरी

Hindi News पंजाबमोहाली के एक्सिस बैंक में लोगों से 50 करोड़ का फ्रॉड, आरोपी मैनेजर हुआ फरार

मोहाली के एक्सिस बैंक में लोगों से 50 करोड़ का फ्रॉड, आरोपी मैनेजर हुआ फरार

मोहाली के न्यू चंडीगढ़ के गांव बैसेपुरा की एक्सिस बैंक की ब्रांच में 50 करोड़ के फ्रॉड का मामला सामने आया है। इस फ्रॉड को बैंक मैनेजर गौरव शर्मा ने ही अंजाम दिया है। वह जाली साइन करा लेता था।

मोहाली के एक्सिस बैंक में लोगों से 50 करोड़ का फ्रॉड, आरोपी मैनेजर हुआ फरार
Deepakलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Wed, 14 Feb 2024 11:03 PM
ऐप पर पढ़ें

मोहाली के न्यू चंडीगढ़ के गांव बैसेपुरा की एक्सिस बैंक की ब्रांच में 50 करोड़ के फ्रॉड का मामला सामने आया है। इस फ्रॉड को बैंक मैनेजर गौरव शर्मा ने ही अंजाम दिया है। वह लोगों के जाली साइन या कई बार साइन किए हुए चेक लेकर अपने पास रख लेता था। बुधवार को बैंसेपुरा के निवासी अपना पैसा निकालने बैंक पहुंचे तो उनके खाते खाली थे। पैसा उनकी जानकारी के बगैर निकाला जा चुका था। ये बात पता लगते ही बैंक के बाकी खाताधारक भी वहां पहुंचे। लोगों ने बैंक स्टेटेमैंट निकलवाई तो इस ठगी का पता चला। मैनेजर गौरव शर्मा अब ये पैसा निकालकर फरार हो चुका है। 

कई लोगों की शिकायतें
पुलिस के पास मुल्लांपुर गरीबदास थाने में धोखाधड़ी के पीड़ित 24 लोगों की शिकायतें पहुंच चुकी हैं। दिन में लोगों ने बैंक के बाहर प्रदर्शन किया। एसएचओ मुल्लांपुर गरीबदास सिमरजीत सिंह ने बताया कि हमारे पास कई लोगों की ​शिकायतें आई हैं। आरोपी मैनेजर गौरव शर्मा के ​खिलाफ केस दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी गई है। दस्तावेजों के साथ बैंक के उच्चाधिकारियों से सम्पर्क की कोशिश की जा रही है। बैंक मैनेजर गौरव शर्मा पठानकोट का रहने वाला है, जो न्यू चंडीगढ़ की ही एक सोसायटी में रहता था। 

ऐसे करता रहा ठगी
लोगों का आरोप है कि मैनेजर गौरव शर्मा शाम को दिखाने के लिए चला जाता था, लेकिन कई बार देर रात 10 से 11 बजे तक बैंक में देखा गया। गौरव शर्मा लोगों से कई बार चेक पर साइन करवा लेता था। लेकिन साइन गलत किए जाने की बात कहकर नया चेक तो लेता रहा, लेकिन गलत साइन वाले चेक वापस नहीं करता था। चेक के बिना बैंक आकर विड्रॉल फार्म के जरिए पैसा निकालने वालों के साथ भी ऐसा ही होता था। दोबारा फार्म भरवाकर पैसे दे दिए जाते थे, लेकिन गलत भरने वाला विड्रॉल फॉर्म वापस नहीं किया जाता था। लोगों का आरोप है कि आरोपी मैनेजर ने कुछ लोगों के जाली साइन भी खुद किए और पैसा निकाल लिया। 

नहीं आते थे मैसेज
बैंक के खाताधारकों का आरोप है कि कई बार उन्होंने अपने बैंक खातों की पासबुक अपडेट करवाने के लिए भी कहा लेकिन ऐसा नहीं किया गया। हर बार कहा गया कि बैंक के सर्वर या मशीन में कोई प्रॉब्लम है, इसलिए अगली बार पासबुक अपडेट हो जाएगी। ऐसा पिछले 4-5 महीने से हो रहा था। यही नहीं, जिन लोगों के खाते से करोड़ों रुपए निकलते गए, उनके मोबाइल पर मैसेज आने बंद हो गए क्योंकि बैंक मैनेजर ने इन लोगों के खातों के साथ अटैच फोन नंबर या तो बंद कर दिए या बदल दिए। 

(रिपोर्ट: मोनी देवी)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें