DA Image

अगली फोटो

उत्तराखंड के पलायन से खाली गांव में रंगों से भर दी ‘जान’

House
गांव के बाकी परिवार झड़ीपानी, धनोल्टी आदि सुविधाजनक स्थानों पर बस गए हैं। लेकिन इसी ब्लॉक के कोट गांव निवासी दीपक रमोला ने सौड़ गांव की पुरानी यादों को जिंदा करने का बीड़ा उठाया है।
House
दीपक ने गांव से पलायन कर चुके हर परिवार से संपर्क किया। उनकी गांव की जीवन शैली, शिक्षा, खान-पान, रीति-रीवाज के बारे जानकारी जुटाई। दीपक विदेश में नौकरी करते हैं।
House
जानकारी जुटाने के बाद वेबसाइट के जरिए भीत्ति चित्रकारों से गांव के खंडहर घरों की दीवारों पर चित्रकारी के लिए संपर्क किया। दीपक रमोला ने बताया कि करीब 300 भित्ति चित्रकारों ने यहां आने के लिए आवेदन किया।
House
अब तक 80 कलाकार गांव के खंडहर घरों पर कलाकृति कर चुके हैं। यह काम इसी साल एक जून से शुरू किया था, जो 30 जून तक पूरा होगा। करीब पचास घरों की दीवार पर सुंदर चित्रकारी हो चुकी है।
House
दीपक बताते हैं कि हमारा उद्देश्य पलायन को रोकना है। अब इन खंडहर घरों को देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक आने लगे हैं। इससे गांव में रह रहे परिवारों को भी स्वरोजगार मिल रहा है।
House
खंडहर घरों की दीवार पर चित्रों के माध्यम से कभी यहां रहे लोगों की जीवन शैली के साथ ही गांव का इतिहास भी दर्शाया जा रहा है। एक घर की दीवार पर आकाशवाणी के जरिये समाचार सुनते कुछ लोग दिखाए गए। इस घर में सबसे पहले रेडियो आया था।
House
एक दीवार पर पालकी में दूल्हा और डोली पर दुल्हन दिखाई गई। इस घर में दशकों पहले शादी हुई थी। उसी शादी की यह झलक दर्शाने की कोशिश की गई।
House
गांव में स्कूल जाते बच्चे भी कलाकारों ने चित्रों के माध्यम से दिखाए। किसी चित्र में खेलते बच्चे हैं तो किसी में हुक्का पीते बुजुर्ग।
House
खंडहर घरों पर चित्रकारी के लिए देशभर से जानेमाने भित्ति चित्रकार आ चुके हैं। बैंगलोर से अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चित्रकार पूर्णिमा सुकमार भी यहां चुकी हैं।
House
गांव में लैला वाजीराली, घाना, नितीश यादव, नीरव सहित अन्य कलाकार भी इस वीरान गांव की दीवारों पर अपनी चित्रकारी का प्रदर्शन कर चुके हैं।
House
पहाड़ के गांव में दीवारों पर चित्रों के जरिए यादें संजाने का यह अपने तरह का पहला मामला है। दीपक के इस प्रयास की तरफ सराहना हो रही है।
House
एक खास बात यह भी है कि देशभर से यहां पहुंचने वाले कलाकार यहां की संस्कृति को भी समझ रहे हैं। वह यहां के खान-पान और रहन सहन के तरीकों से भी काफी प्रभावित हैं।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:painter give second life to empty house of a village in uttarakhand