Hindi News फोटो एनसीआरअर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS

नोएडा के सेक्टर 93ए में स्थित लगभग 100 मीटर ऊंचे सुपरटेक के अवैध ट्विन टावर्स रविवार को विस्फोट के जरिए जमींदोज कर दिए गए। इस प्रक्रिया में किसी तरह के जानमाल के नुकसान की फिलहाल...

Praveen Sharma
अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS1/7

100

करीब 100 मीटर ऊंचे टावर को कंट्रोल ब्लास्ट के जरिए महज चंद सेकेंड में धराशायी कर दिया गया। दिल्ली के कुतुब मीनार (73 मीटर) से भी ऊंचे इन गगनचुंबी ट्विन टावर को 'वाटरफॉल इम्प्लोजन' तकनीक की मदद से गिराया गया। Supertech Twin Tower Demolition (Photo : Hindustan)

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS2/7

ट्विन टावर भारत में अब तक ध्वस्त की गई सबसे ऊंचे ढांचे थे। यह दोनों टावर देश की राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर 93ए में सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट हाउसिंग सोसाइटी के भीतर 2009 से 'एपेक्स' (32 मंजिल) और 'सियान' (29 मंजिल) में निर्माणाधीन थे। (Photo : Hindustan)

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS3/7

3 700

इन दोनों इमारतों को गिराने के लिए 3,700 किलोग्राम से अधिक विस्फोटकों का इस्तेमाल किया गया। इन ट्विन टावर में 40 मंजिलें और 21 दुकानों समेत 915 आवासीय अपार्टमेंट प्रस्तावित किए गए थे। (Photo : PTI)

संबंधित फोटो गैलरी

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS4/7

5 00

दोनों टावर को गिराए जाने से पहले इनके पास स्थित दो सोसाइटी एमराल्ड कोर्ट और एटीएस विलेज के करीब 5,000 लोगों को वहां से हटा दिया गया। इसके अलावा, करीब 3,000 वाहनों और बिल्ली तथा कुत्तों समेत 150-200 पालतू जानवरों को भी हटाया गया (Photo : ANI)

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS5/7

55

अनुमान के मुताबिक, ट्विन टावर को गिराने के बाद इससे 55 हजार टन से अधिक मलबा पैदा हुआ है, जिसे हटाने में तीन महीने का समय लगेगा। मुंबई की एडिफिस इंजीनियरिंग को लगभग 100 मीटर ऊंचे इन ट्विन टावर को सुरक्षित रूप से गिराने का काम सौंपा गया था। कंपनी ने इस जोखिम भरे काम के लिए दक्षिण अफ्रीका की जेट डिमॉलिशन्स के साथ एक करार किया था। (Photo : ANI)

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS6/7

2020

एडिफिस इंजीनियरिंग और जेट डिमॉलिशन्स ने इससे पहले 2020 में कोच्चि (केरल) स्थित मराडू कॉम्प्लेक्स को ढहाया था, जिसमें 18 से 20 मंजिलों वाले चार आवासीय भवन थे। वर्ष 2019 में जेट डिमॉलिशन्स ने जोहानिसबर्ग (दक्षिण अफ्रीका) में बैंक ऑफ लिस्बन की 108 मीटर ऊंची इमारत को ढहाया था, जिसके आठ मीटर के दायरे में कई भवन थे। (Photo : Hindustan)

अर्श से फर्श पर आए नोएडा के ट्विन टावर, पलक झपकते ही मलबे के ढेर में हुए तब्दील, देखें PHOTOS7/7

2021

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त 2021 में ट्विन टावर को गिराने का आदेश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने एमराल्ड कोर्ट सोसायटी परिसर के बीच इस निर्माण को नियमों का उल्लंघन बताया था। (Photo : PTI)

संबंधित फोटो गैलरी