DA Image
27 सितम्बर, 2020|1:14|IST

अगली फोटो

7 सितंबर से फिर दौड़ेगी दिल्ली मेट्रो, कोविड से निपटने को होंगे खास इंतजाम, देखें तैयारियों की एक झलक

7
1 / 10

अनलॉक-4 के तहत 7 सितंबर से चलने वाली दिल्ली मेट्रो के लिए सरकार ने बुधवार को गाइडलाइंस का ऐलान कर दिया। मेट्रो को तीन स्टेज (5 फेज) में शुरू करने का फैसला लिया गया है। मेट्रो की टाइमिंग में भी बदलाव किया गया है। पहले फेज में दिल्ली मेट्रो दो पालियों- सुबह 7 से 11 तक और दोपहर बाद 4 बजे से रात 8 बजे तक चलेंगी।

2 / 10

आरंभ में प्रत्येक स्टेशन पर केवल एक अथवा दो निर्धारित गेट से यात्रियों को प्रवेश/निकास की अनुमति होगी। प्रत्येक स्टेशन के ऐसे सभी निर्धारित गेटों की संख्या आम जानकारी के लिए डीएमआरसी की वेबसाइट तथा अधिकारिक सोशल मीडिया हैंडल पर उपलब्ध कराई जाएगी। गेटों की संख्या में किसी बदलाव की स्थिति में, आवश्यक समझे जाने पर इसे आगे अपडेट किया जाएगा।

3 / 10

स्टेशनों/गाड़ियों में प्रवेश करते समय तथा पूरी यात्रा के दौरान सभी यात्रियों के लिए फेस मास्क पहनना/ चेहरे को कवर करना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य संबंधी अपडेट के लिए यात्रियों द्वारा ‘आरोग्य सेतु ऐप’ का उपयोग अपेक्षित होगा।

4 / 10

स्टेशन के प्रवेश द्वारों/फ्रिस्किंग एरिया में सभी यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा तथा हाथों को सैनिटाइज करना होगा। 45 प्रमुख स्टेशनों पर ऑटो थर्मल सह हैंड सैनिटाइजेशन मशीनों की व्यवस्था की गई है। शेष मेट्रो स्टेशनों पर हैंड सैनिटाइजेशन के लिए ऑटो सैनिटाइजर डिस्पेंसर लगे होंगे और थर्मल स्क्रीनिंग मैनुअली थर्मल गन के द्वारा की जाएगी।

                                                                                            -19
5 / 10

जिन यात्रियों में बुखार अथवा कोविड-19 के लक्षण होंगे, उन्हें यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। स्टेशन पर यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा, जिसके लिए फ्रिस्किंग प्वॉइंटों, कस्टमर केयर, एएफसी गेटों आदि पर लगभग एक मीटर की दूरी पर चिह्न बनाए गए हैं।

                                                                                                                2-3
6 / 10

लिफ्ट की क्षमता के आधार पर एक बारी में केवल 2-3 व्यक्तियों को ही लिफ्ट के उपयोग की अनुमति होगी। इसी प्रकार, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए एस्केलेटर पर यात्री एक-एक सीढ़ी छोड़कर खड़े होंगे।

             800                                                                                                                                                             -
7 / 10

सभी स्टेशनों पर तैनात लगभग 800 अधिकारियों/कर्मचारियों की टीम स्टेशनों के भीतर कार्यावधि के दौरान साफ-सफाई और सुव्यवस्था सुनिश्चित करेगी। इसके अतिरिक्त वे भीड़ के बढ़ जाने तथा सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन न होने की स्थिति में स्टेशन में यात्रियों के प्रवेश को नियंत्रित करेंगे।

8 / 10

भीड़ के नियंत्रण के लिए स्टेशनों/ट्रेनों में लगे सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से निगरानी भी की जाएगी। दिव्यांग यात्रियों की सहायता के लिए प्रशिक्षित ग्राहक सुविधा एजेंट तैनात होंगे, जो समुचित सोशल डिस्टेंसिंग और स्वच्छता सुनिश्चित करेंगे।

9 / 10

ट्रेनों में यात्रियों को एक सीट छोड़कर अथवा खड़े रहने के लिए एक मीटर की दूरी बनाकर यात्रा की अनुमति दी जाएगी। ‘यहां नहीं बैठें’ संदेश वाले स्टिकर एक सीट छोड़कर चिपकाए गए हैं ताकि ट्रेन के भीतर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखी जा सके।

10 / 10

टर्मिनल स्टेशनों पर ट्रिप की समाप्ति पर ट्रेनों को सैनिटाइज किया जाएगा। इसी प्रकार, दिन की समाप्ति पर ट्रेनों के डिपो में वापस जाने पर, उन्हें पुनः भली-भांति सैनिटाइज किया जाएगा। टर्मिनल स्टेशनों पर ट्रेन के दरवाजों को खुला रखा जाएगा ताकि ताजी हवा ट्रेन में आ सके। (All Photos : Sonu Mehta)

अगली गैलरी