हिंदी न्यूज़ फोटो देशकांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़

कोरोना महामारी के चलते पिछले 2 सालों से कांवड़ यात्रा पर रोक थी, लेकिन इस बार भगवान शिव का 'जलाभिषेक' करने के लिए देश भर के शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़...

Vikas Sharma
Tue, 26 Jul 2022 03:11 PM
कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़1/8

पूरा पढ़ेंकोरोना महामारी के चलते पिछले 2 सालों से कांवड़ यात्रा पर रोक थी, लेकिन इस बार भगवान शिव का 'जलाभिषेक' करने के लिए देश भर के शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। पुलिस प्रशासन की कड़ी सुरक्षा के बीच शिव भक्त जलाभिषेत करने पहुंचे। (PTI)

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़2/8

पूरा पढ़ेंसावन का महीना कांवड़ यात्रा के लिए जाना जाता है, जो भगवान शिव के भक्तों के लिए एक वार्षिक तीर्थयात्रा के समान है। देश भर से कांवड़िए उत्तराखंड में हरिद्वार, गौमुख, गंगोत्री और बिहार के सुल्तानगंज जैसे स्थानों पर गंगा नदी के पवित्र जल को लाने के लिए जाते हैं और फिर उसी जल से भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं। (ANI)

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़3/8

पूरा पढ़ेंकोरोना के चलते पिछले दो वर्षों से कांवड़ यात्रा नहीं हुई थी, इसलिए इस साल पिछले सालों के मुकाबले ज्यादा लोगों ने कांवड़ यात्रा में की। (ANI)

संबंधित फोटो गैलरी

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़4/8

पूरा पढ़ेंसावन शिवरात्रि आज यानि मंगलवार को है और आज ही मंगला गौरी व्रत भी है। (ANI)

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़5/8

पूरा पढ़ेंकनखल स्थित दक्षेश्वर महादेव मंदिर में जलाभिषेक करने आने वाले श्रद्धालुओं का कहना है कि सावन का महीना भगवान शिव का सबसे प्रिय महीना है। (ANI)

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़6/8

पूरा पढ़ेंकनखल दक्ष प्रजापति महादेव का ससुराल है और दुनिया में भगवान शिव का पहला मंदिर है। भगवान शिव ने वादा किया था कि वह सावन के एक महीने के लिए यहां रहेंगे और सावन के महीने में केवल दक्ष प्रजापति में रहेंगे, "ऐसा एक भक्त ने समाचार एजेंसी को बताया। (ANI)

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़7/8

पूरा पढ़ेंसावन में भगवान शिव के बालों से गंगा का अवतरण हुआ था, इसलिए सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा गंगा जल, दूध, दही, शहद, भूरे गन्ने के रस और भांग धतूरे से की जाती है। सावन के महीने में सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं क्योंकि सावन के महीने में यहां भगवान शिव का वास होता है। (ANI)

कांवड़ यात्रा 2022:सावन शिवरात्रि पर 'जलाभिषेक' के लिए देशभर के शिव मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़8/8

पूरा पढ़ेंश्रावण या सावन का महीना, वर्ष का सबसे शुभ महीना माना जाता है। यह भगवान शिव को समर्पित है, जो हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस ब्रह्मांड के निर्माता, संरक्षक और संहारक हैं। (ANI)

संबंधित फोटो गैलरी