DA Image
25 नवंबर, 2020|10:57|IST

अगली फोटो

दिल्ली: खतरे के निशान के पास बह रही यमुना नदी, बाढ़ का खतरा

delhi govt calls meeting as yamuna surges people moving to safer places
1 / 5

हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से 8 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद दिल्ली में यमुना नदी के जलस्तर में वृद्धि हो रही है, जिसके कारण यहां बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। राष्ट्रीय राजधानी में यमुना नदी पर बने लोहे वाले पुल पर सोमवार सुबह जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया। (Photo-HT)

delhi govt calls meeting as yamuna surges people moving to safer places
2 / 5

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सभी संबंधित विभागों की आपात बैठक बुलाई है, जिसमें संभावित खतरे से निपटने के लिए उठाये जाने वाले कदमों पर विचार किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि लोहे वाले पुल पर जलस्तर का खतरे का निशान 204.50 मीटर है और आज सुबह 10 बजे तक यहां पर जलस्तर 204.80 मीटर हो गया। (Photo-HT)

delhi govt calls meeting as yamuna surges people moving to safer places
3 / 5

यमुना की तलहटी में रहने वाले लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए कहा गया है। हरियाणा में स्थित हथिनी कुंड बैराज (ताजेवाला) से रविवार शाम 6 बजे 8,28,072 क्यूसेक पानी यमुना नदी में छोड़ने से दिल्ली और नोएडा में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। (Photo-HT)

delhi govt calls meeting as yamuna surges people moving to safer places
4 / 5

गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन के प्रवक्ता राकेश चौहान ने आईएएनएस को बताया कि पानी के मंगलवार की रात तक नई दिल्ली में ओखला बैराज पर पहुंचने की संभावना है। (Photo-HT)

delhi govt calls meeting as yamuna surges people moving to safer places
5 / 5

पूर्वी दिल्ली जिले ने अपने आदेश में कहा, ''बारिश होने के साथ-साथ हथिनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के कारण जलस्तर बढ़ रहा है और कल सुबह 10 बजे तक यमुना का जलस्तर 207 मीटर तक बढ़ सकता है, जिससे लोगों की जान और माल को खतरा हो सकता है। (Photo-HT)

अगली गैलरी