DA Image

अगली फोटो

हिरासत में रामपाल

हिरासत में रामपाल
पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने वर्ष 2006 के हत्या के एक मामले में विवादास्पद स्वयंभू संत रामपाल की जमानत आज रद्द कर दी और सुनवाई करते हुए उन्हें 28 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।
हिरासत में रामपाल
गिरफ्तार किये जा चुके स्वयंभू संत रामपाल ने आरोपों को खारिज कर दिया कि उन्होंने अवमानना के एक मामले में पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए बरवाला के अपने आश्रम के भीतर अपने हजारों अनुयायियों को बंधक बनाए रखने को कहा था।
हिरासत में रामपाल
रामपाल के अनुयायियों ने दावा किया था कि उनके निजी सैन्य कमांडो और अन्य वफादार सेवकों ने उन्हें बंधक बनाए रखा। इस बारे में पूछे जाने पर स्वयंभू संत ने गिरफ्तारी के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में कहा, नहीं यह सत्य नहीं है।
हिरासत में रामपाल
उच्च न्यायालय ने जमानत रद्द करने के आदेश की घोषणा हरियाणा के महाधिवक्ता और हिसार में बरवाला पुलिस थाने के प्रभारी (एसएचओ) द्वारा पेश आवेदन के तुरंत बाद की।
हिरासत में रामपाल
न्यायाधीश एम जयपाल और दर्शन सिंह की पीठ ने आदेश दिया कि रामपाल को 2006 के हत्या मामले में तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाए।
हिरासत में रामपाल
अदालत की अवमानना मामले में अदालत में पेश होने में विफल रहने पर 10 नवंबर को अदालत ने जमानत रद्द करने के मुद्दे का स्वत: संज्ञान लिया था और बचाव पक्ष, सरकार तथा अदालत के न्याय मित्र को सुनने के बाद फैसला 18 नवंबर के लिए सुरक्षित रख लिया था।
हिरासत में रामपाल
पुलिस और रामपाल के समर्थकों के बीच 2 सप्ताह से अधिक समय तक चले तनावपूर्ण गतिरोध के बाद रामपाल को बीती रात बरवाला स्थित उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया गया।
हिरासत में रामपाल
गिरफ्तार किये जा चुके स्वयंभू संत रामपाल ने आरोपों को खारिज कर दिया कि उन्होंने अवमानना के एक मामले में पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए बरवाला के अपने आश्रम के भीतर अपने हजारों अनुयायियों को बंधक बनाए रखने को कहा था।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिरासत में रामपाल