DA Image

अगली फोटो

Weight loss Tips: जानें कैसे बढ़ता है वजन, इस तरह करें वजन पर नियंत्रण

हिन्दुस्तान फीचर टीम, नई दिल्ली
मोटापा किसी भी व्यक्ति को धीरे-धीरे अपनी गिरफ्त में लेता है। यानी आपको इसकी खबर मिलती रहती है कि आप मोटापे की ओर बढ़ रहे हैं। ऐसी स्थिति में यह बहुत आसान है कि आप थोड़े जागरूक रहकर इस मोटापे की गिरफ्त में आने से बच सकें। धीरे-धीरे वसा की परतें शरीर पर चढ़ती जाती हैं और पता ही नहीं चलता कि कब आप मोटापे के शिकार हो गए। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, पूरे विश्व में मोटापा एक महामारी की तरह फैल रहा है। लेकिन यह समस्या कोई ऐसी महामारी नहीं है, जो अनियंत्रित रूप से फैले। यह एक धीमी प्रक्रिया है, जिसे आप नियंत्रित कर सकते हैं। जानकारी दे रही हैं शमीम खान जागरूकता है जरूरी अपना आदर्श भार पता लगाएं, उसे बनाए रखने का प्रयास करें। अगर वजन थोड़ा भी बढ़ जाए, तो उसे हल्के में न लें, बल्कि सही खानपान और शारीरिक रूप से सक्रिय रहकर उसे कम करने का प्रयास करें। डब्ल्यूएचआर और बीएमआई पर नजर रखना आपको मोटापे की गिरफ्त में आने से बचा सकता है। कैसे बढ़ता है वजन कैलरी की आवश्यकता इस बात पर निर्भर करती है कि आप शारीरिक रूप से कितने सक्रिय हैं। यह समझना जरूरी है कि यह कैलरी हमें संतुलित रूप में वसा, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और दूसरे रूपों में चाहिए। मोटापा और कैलरी का सीधा संबंध है। जैसे किसी व्यक्ति को 2200 कैलरी की आवश्यकता होती है और वह 3000 कैलरी का सेवन करता है, तो उसका वजन बढ़ेगा ही। यह अतिरिक्त 800 कैलरी वसा में बदलने के बाद परतों के रूप में शरीर के विभिन्न भागों में जम जाती है। अगर आप संतुलन बनाएंगे, तो आपका वजन कभी नहीं बढ़ेगा। जैसे अगर आपने ज्यादा और भारी खाना खा लिया है, तो अगला खाना हल्का और कम मात्रा में खाएं। शारीरिक रूप से सक्रिय रहें, तो फिट भी रहेंगे।
stomach fat can affect your brain
आदर्श भार और शारीरिक माप खुद को मोटापे की चपेट में आने से बचाने के लिए आप अपने आदर्श भार और शारीरिक माप का पता लगाएं। इन्हें पता लगाने के बाद हर छह महीने में आप इन्हें मापते रहें, ताकि मोटापे की चपेट में आने से पहले ही सतर्क हो जाएं। एक पुरुष, जिसकी ऊंचाई 6 फुट (72 इंच या 183 से.मी.) है, उसे अपनी कमर का माप 36 इंच से कम रखना चाहिए। एक महिला, जिसकी लंबाई 5 फुट 4 इंच (64 इंच या 163 से.मी.) है, उसे अपनी कमर का माप 32 इंच से कम रखना चाहिए। अर्थात अपने कमर के घेरे को अपनी लंबाई के आधे से कम रखें। कमर-नितंब का अनुपात डब्ल्यूएचआर आपकी कमर और नितंब के माप का अनुपात है। अगर किसी महिला की कमर का माप 28 इंच है और नितंब का माप 36 इंच, तो डब्ल्यूएचआर 28 को 36 से भाग देने पर आएगा, जो 0.77 होगा। अगर डब्ल्यूएचआर एक या उससे अधिक होगा, तो कार्डियोवॉस्क्युलर बीमारियों का खतरा काफी बढ़ जाएगा। डब्ल्यूएचआर को आदर्श शारीरिक माप का बेहतर संकेत माना जाता है।
stomach fat can affect your brain
आवश्यक है वजन पर नियंत्रण मोटापा अपने आप में कोई रोग नहीं है, लेकिन कई रोगों की जड़ है। जिन लोगों का वजन ज्यादा होता है, उन्हें चलने, सांस लेने और बैठने में परेशानी होती है। मोटापे से दूर रहकर डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारियों और जोड़ों के दर्द जैसी कई बीमारियों से बचा जा सकता है। सामान्य से अधिक भार होना और मोटापा विश्व भर में मृत्यु के सबसे प्रमुख चार कारणों में से एक है। विश्वभर में करीब 30 लाख लोग मोटापे के कारण मरते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मोटापे को स्वास्थ्य के लिए सर्वाधिक 10 खतरों में शामिल किया है। कैसी-कैसी बीमारियों की आशंका ’शरीर में वसा की मात्रा अधिक होने पर सोडियम इकट्ठा हो जाता है, जिससे रक्त का दाब बढ़ जाता है। यह दिल के लिए काफी नुकसानदेह होता है। ’मोटापा टाइप 2 डायबिटीज की मुख्य वजह है। वसा की मात्रा अधिक होने पर शरीर इंसुलिन के प्रति अवरोधी हो जाता है। ’अधिक भार से आथ्र्राइटिस की समस्या हो जाती है, क्योंकि जोड़ों पर अधिक भार पड़ता है, जिससे कार्टिलेज की मात्रा कम होती है। ’ब्रेन स्ट्रोक और कार्डिएक अरेस्ट की आशंका बढ़ जाती है।
stomach fat can affect your brain
वजन बढ़ जाए तो... खाली पेट कतई ना रहें। हर तीन या साढ़े तीन घंटे में भोजन करें। अनाज अधिक मात्रा में खाएं। कोशिश करें कि ओट्स, बाजरा, गेहूं आपकी खुराक में शामिल हों। हरी सब्जियां जैसे पालक, मेथी और सरसों खूब खाएं। एक दिन में 600 ग्राम हरी सब्जियां खाने की कोशिश करें। जितनी बार भोजन करें, उतनी बार आपकी थाली में एक ऐसा पकवान जरूर हो, जिसमें प्रोटीन पाया जाता हो। पेट और कमर की चर्बी को कम करने के लिए - पवनमुक्तासन, जानुशिरासन, मण्डूकासन, उष्ट्रासन, धनुरासन, उत्तानपादासन, नौकासन तथा शशांकासन का अभ्यास करें। खानपान में सावधानी बरत कर जल्दी ही बढ़े हुए वजन से निजात पा सकते हैं। चावल, चॉकलेट, कॉफी, चिप्स, मिठाइयां तथा फास्टफूड के स्थान पर सादा, सुपाच्य तथा संतुलित भोजन करें। भोजन को खूब चबा-चबाकर खाएं तथा हमेशा कुछ न कुछ खाते रहने से परहेज करें। रात का खाना सोने से दो घंटे पहले कर लें। कब्ज न होने दें। इसके लिए गेहूं, चना, सोयाबीन और जौ मिश्रित आटा खाएं। उड़द दाल, मैदे से बनी चीजें, बैंगन, अरबी तथा बहुत खट्टे पदार्थों का सेवन कम करें। सूप, मट्ठे का सेवन अधिक मात्रा में करें। क्या कहते हैं आंकड़े 20%वर्ष और उससे अधिक उम्र के 35 प्रतिशत वयस्कों का भार औसत से अधिक है और 11 प्रतिशत मोटे हैं। 45% बच्चे निजी स्कूलों के और सरकारी स्कूलों के 7 प्रतिशत बच्चे मोटापे के शिकार हैं दिल्ली में। 53% तरह की बीमारियां हो सकती हैं मोटापे से, आधुनिक शोधों के अनुसार। 73% महानगरों में रहने वाले लोगों का भार औसत से अधिक है, हावर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार। 30 लाख लोग मोटापे के कारण मरते हैं दुनियाभर में।
stomach fat can affect your brain
घरेलू नुस्खे रोज सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पिएं। एक गिलास पानी में अदरक के कुछ टुकड़े डालकर उबाल लें, इस पानी को निथार लें। इसमें दो चम्मच नीबू का रस डालकर पी लें। यह भूख को कम करता है। काफी मात्रा में पत्तागोभी खाएं। यह वजन कम करने के लिए बहुत अच्छा है, क्योंकि इसमें टारटेरिक एसिड होता है, जो शुगर और कार्बोहाइड्रेट को वसा में बदलने से रोकता है। ग्रीन टी भी भार कम करने के लिए बहुत अच्छी होती है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Weight loss tips: know how to lose weight control weight this way