DA Image

अगली फोटो

अपने बच्चे को इस तरह सिखाएं भावनाओं को जताना, ऐसा करने के होते हैं ये फायदे

हिन्दुस्तान फीचर टीम, नई दिल्ली
parenting
अगर बच्चा अपनी भावनाओं को जताना सीख ले, तो आधी परेशानी दूर हो जाती है। इस काम में कैसे करें बच्चे की मदद, बता रही हैं पूनम महाजन अधिकांश माता-पिता की यह शिकायत होती है कि हमारा बच्चा कोई बात नहीं मानता। कोई भी हिदायत देने पर वह ठीक विपरीत काम करता है। पर क्या आप जानती हैं कि आपका बच्चा आखिर ऐसा करता क्यों हैं? ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आप अपने बच्चे की भावनाओं को समझ ही नहीं पाती हैं और परेशान होकर बच्चा वैसा व्यवहार करता है। बच्चे को समझने के लिए उसकी भावनाओं और विचारों को जानना बहुत महत्वपूर्ण होता है। यदि आप बच्चे की भावना को समझेंगी, तभी उसके साथ अपना रिश्ता मजबूत बना पाएंगी। बच्चे के सही पालन-पोषण के अतिरिक्त उसकी मानसिक स्थिति को समझना और उसके अनुकूल व्यवहार करना भी बहुत जरूरी है। ध्यान रहे, अगर आप अपने बच्चे को खुद को व्यक्त करने का मौका नहीं देंगी तो बच्चे को यह महसूस होने लगेगा कि उसकी भावनाएं योग्य नहीं हैं। बच्चों को अपनी भावनाएं अभिव्यक्त करने के लिए आप ये तरीके आजमा सकती हैं:
parenting
उनके संकेतों का जवाब दें : बच्चा अगर बहुत छोटा है तो वो जब भी आपको पुकारे, तुरंत जवाब दें। इस तरह बच्चे को पता चलेगा कि आप उसकी बात को सुनती और समझती हैं। इस तरह धीरे-धीरे आप उनकी सांकेतिक बोली को भी समझने लगेंगी। जिन शिशुओं को बहुत डरा या धमका कर रखा जाता है और उन्हें रोने के लिए छोड़ दिया जाता है, वे जिद्दी बन जाते हैं। बड़े होने पर इसका उनके व्यक्तित्व पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है।
parenting
समझें बच्चे की जरूरत : बहुत छोटे बच्चों की बात को अकसर गलत समझने के कारण भी दिक्कत हो सकती है। जैसे कि हमें लगता है कि वह नखरे कर रहा है और हम उसे रोने के लिए छोड़ देते हैं। बच्चा अगर नखरा करे तो आप उस दौरान शांत रहने की कोशिश करें। उसे हंसी-मजाक में उड़ा दें। यदि आप यह नहीं समझ पा रही हैं कि आपका बच्चा आपको क्या बताने की कोशिश कर रहा है तो उसकी आंखों को गौर से देखें। बच्चे की बात आपको झट से समझ में आ जाएगी।
parenting
अपने मन की कहें-सुनें : एक अच्छी रोल मॉडल बनें और अपने बच्चे को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का तरीका दिखाएं। बच्चे से बात करते वक्त उन शब्दों का उपयोग करें, जिन्हें बच्चा समझ सके। उन्हें भावना शब्द का असल मतलब समझाएं। आप उसके सामने कह सकती हैं कि मुझे बहुत दुख हो रहा है कि पापा कुछ दिनों के लिए दूर गए हैं। मुझे उनकी याद आती है या मुझे गुस्सा आ रहा है कि कोई भी घर के काम में मेरी मदद नहीं करता। मैं यह सारा काम अकेले करते-करते थक गई हूं। इस तरह बच्चा आपको तो समझेगा ही, उसकी अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में हिचक भी खत्म होगी।
parenting
भावनाओं को सही नाम देने में मदद करें : जब बच्चे बहुत निराश और दुखी हो जाते हैं तो वही सही समय होता है कि आप उनसे बात करें। ऐसे में आप दोनों के बीच एक भावनात्मक संबंध विकसित होता है। आप उनको भावनाओं को सही नाम देना सिखाएं। कई ऑनलाइन गेम भी हैं, जिनमें भावनाओं को लेबल (नाम देना) किया जाता है। इस तरह वे भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ सकेंगे।
भावनाओं को दबाने से बचें : यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप बच्चे को अपनी सभी भावनाओं को व्यक्त करने की पूरी आजादी दें। उन्हें ऐसा बिल्कुल नहीं लगना चाहिए कि आप उनकी भावनाओं की परवाह नहीं करती हैं। उन्हें सुनें और समझने की कोशिश करें।
parenting
आज स्कूल में सबसे अच्छी बात क्या हुई ? इस सीजन में आप कौन-सी तीन चीजें करना चाहते हैं? आप किसी बात से खुश / नाराज / परेशान हैं? आपको क्या करना पसंद है? आपका पसंदीदा टीचर कौन है? ऐसा क्या है, जो आपको उनके बारे में सबसे ज्यादा पसंद है? आप इस समय क्लास में क्या पढ़ रहे हैं? आपका पसंदीदा किरदार कौन-सा है और क्यों? क्या आप अपने नए टीचर को उतना पसंद करते हैं, जितना पहले वाले टीचर को करते थे? आप स्कूल में किसके साथ बैठे थे? वह कैसा/कैसी थी? आज आप कैसा महसूस कर रहे हैं? आप अपने दिमाग में आने वाली हर चीज की ड्रॉइंग बनाकर बताओ ? ऐसी कौन-सी बात है, जिसे याद करके आपको खुशी मिलती है? क्या आपको कोई सब्जेक्ट या चैप्टर मुश्किल लग रहा है? क्या मैं कुछ मदद कर सकती हूं? बड़े होने पर आप क्या बनना चाहते हैं? आपको किससे डर लगता है? (सेवा फाउंडेशन से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता मो. तनवीर से बातचीत पर आधारित)
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Teach your child to show emotions and its these benefits