DA Image

अगली फोटो

करी पत्ता के ये फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान

हिन्दुस्तान फीचर टीम, नई दिल्ली
करी पत्ता रक्त में एचडीएल यानी अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ाकर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित बनाए रखता है। यह दिल से जुड़ी बीमारियों से दूर रहने में मदद करता है। इसलिए अपने भोजन में करी पत्ता को नियमित रूप से शामिल करना चाहिए। भारतीय व्यंजनों में इस्तेमाल किए जाने वाले मसालों में करी पत्ता या मीठा नीम भी प्रमुख है, जो खाने में स्वाद और खुशबू का तड़का ही नहीं लगाता, बल्कि अपनी औषधीय खूबियों के कारण स्वास्थ्यप्रद भी है। इनके फायदों के बारे में जानकारी दे रही हैं रजनी अरोड़ाभारतीय व्यंजनों में इस्तेमाल किए जाने वाले मसालों में करी पत्ता या मीठा नीम भी प्रमुख है, जो खाने में स्वाद और खुशबू का तड़का ही नहीं लगाता, बल्कि अपनी औषधीय खूबियों के कारण स्वास्थ्यप्रद भी है। इनके फायदों के बारे में जानकारी दे रही हैं रजनी अरोड़ा एनीमिया से बचाव आयरन और फोलिक एसिड से भरपूर करी पत्ता एनीमिया से बचाव में कारगर है। इसके लिए सुबह के समय खाली पेट दो-तीन करी पत्ते खजूर के साथ खाना चाहिए। इससे शरीर में आयरन का स्तर बेहतर होगा और एनीमिया की आशंका कम होगी।
एनीमिया से बचाव आयरन और फोलिक एसिड से भरपूर करी पत्ता एनीमिया से बचाव में कारगर है। इसके लिए सुबह के समय खाली पेट दो-तीन करी पत्ते खजूर के साथ खाना चाहिए। इससे शरीर में आयरन का स्तर बेहतर होगा और एनीमिया की आशंका कम होगी। लिवर को रखे स्वस्थ करी पत्ता खान-पान की गलत आदतों और अल्कोहल के अधिक सेवन से कमजोर पड़े लिवर को मजबूती प्रदान करता है। इसमें मौजूद विटामिन ए और विटामिन सी लिवर को सुचारु रूप से चलाने में दवा का काम करते हैं। पाचन प्रक्रिया को बनाए सुचारु बैक्टीरिया रोधी और सूजन रोधी गुणों से भरपूर करी पत्ता पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करता है। इसमें मौजूद कार्मिनटिव तत्व कब्ज दूर करता है, तो कार्बोजोल दस्त या डायरिया में राहत देता है। आठ-दस करी पत्तों को पीस कर उनका रस निकाल लें। उसे छाछ में मिलाकर दिन में दो-तीन बार पिएं। अपच में राहत बैक्टीरिया रोधी गुणों से भरपूर करी पत्ता अपच से राहत दिलाने में असरदार है। इसके लिए घी को गर्म कर उसमें सात-आठ करी पत्ता, थोड़ा-सा जीरा, डेढ़ चम्मच सोंठ, शहद और पानी मिलाकर उबाल लें। फिर उसे ठंडा करने के बाद पिएं।
long hair
बालों की समस्याएं करे दूर प्रोटीन, खनिज, बीटा कैरोटीन, एंटी ऑक्सिडेट और बैक्टीरिया रोधी गुणों में भरपूर करी पत्ता का लेप बालों में लगाने से उनका झड़ना और असमय सफेद होना रुक जाता है। बालों के रूखे-बेजान होने औ उनमें डैंड्रफ की समस्या से भी राहत मिलती है। इसके लिए करी पत्तों का कई तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। इन्हें खा सकते हैं, घूप में सूखे करी पत्ते को पीस कर दही में मिलाकर बना मास्क स्कैल्प पर लगा सकते हैं, करी पत्तों को तेल में गर्म करके बालों में लगा सकते हैं, इन्हें पानी में उबालकर तैयार किए गए काढ़ा को ठंडा होने के बाद बालों में लगा सकते हैं। लेप तैयार करने के लिए 10-12 बादाम भिगो दें। सुबह छिलके उतार कर 10-15 करी पत्ते और थोड़ा सा पानी मिलाकर उसका पेस्ट बना लें। पेस्ट को स्कैल्प पर लगाकर मसाज करें। कुछ देर बाद शैंपू से बाल धो लें। करी पत्ते की चाय पीना भी फायदेमंद है। करी पत्ते को पानी में उबालें। उसमें नीबू और शहद मिलाकर रोजाना कम से कम एक बार पिएं।
skin problem
त्वचा के संक्रमण का उपचार करी पत्ता में मौजूद एंटी ऑक्सिडेंट, बैक्टीरिया रोधी और कवक रोधी गुण त्वचा में हुए संक्रमण को दूर करने में सहायक हैं। करी पत्ते का फेस पैक लगाने से मुंहासे, रुखापन, दाग-धब्बे, बढ़ती उम्र के प्रभाव व झुर्रियां दूर करने में मदद मिलती है। फेस पैक बनाने के लिए करी पत्ते को धूप में सुखाकर पीस लें। पाउडर मेंं गुलाब जल, मुल्तानी मिट्टी, थोड़ा-सा चंदन और नारियल तेल मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लेंं। इस फेस पैक को हल्के हाथों से चेहरे पर लगाएं। 15-20 मिनट बाद फेस पैक सूखने पर ठंडे पानी से धो लें। बदहजमी से निजात बदहजमी के कारण जी मिचलाने, घबराहट या उल्टी होने की स्थिति में करी पत्ते का एक चौथाई कप रस, आधा नीबू का रस और एक चुटकी चीनी मिलाकर पीने से काफी आराम मिलता है। बवासीर में फायदेमंद ठंडी तासीर वाला करी पत्ता बवासीर में आराम पहुंचाता है। इसके आठ-दस पत्ते एक-चौथाई कप पानी के साथ पीसें। पानी छान कर पिएं, लाभ होगा।
मोटापा करे कम करी पत्ते में मौजूद फाइबर शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इससे वजन भी कम होता है। इसके लिए आठ-दस करी पत्ते चबा-चबा कर रोजाना खाएं। ब्लड शुगर रखे नियंत्रित करी पत्ते में मौजूद फाइबर शरीर में इंसुलिन को कम कर ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने में सहायक होता है। डायबिटीज दूर करने के लिए रोजाना सुबह खाली पेट आठ-दस करी पत्ते चबा-चबा कर खाएं। (सिद्घांत आयुर्वेद क्लिनिक की डॉ. पूर्णिमा सिद्घांत से की गई बातचीत पर आधारित)
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: know these benefits of Curry leaves