DA Image

अगली फोटो

Board Exam: एक्सपर्ट से जानें परीक्षा के समय कैसी हो बच्चे की डाइट

लाइव हिन्दुस्तान टीम, नई दिल्ली
bihar board exam
परीक्षा की सूचना आई नहीं कि बच्चे के खानपान पर इसका असर नजर आने लगता है। इन दिनों खाना इनकी प्राथमिकता सूची में कहीं भी नहीं टिकता। परीक्षा के समय भी बच्चे की डाइट को कैसे रखें ठीक, बता रही हैं स्वाति गौड़ परीक्षाएं ना केवल बच्चों के लिए, बल्कि उनके माता-पिता के लिए भी समान रूप से तनाव लेकर आती हैं। ये वो दिन होते हैं, जब बच्चे दिन और रात के हिसाब से घंटों पढ़ाई करते हैं और इस तनाव की वजह से उनका खानपान प्रभावित होने लगता है। नतीजतन, बच्चों में इन दिनों चिड़चिड़ापन, नींद ना आना या जरूरत से ज्यादा भूख लगने की शिकायत बढ़ जाती है। लेकिन क्या आप जानती हैं कि उनके रोजाना के आहार में जरा सा फेरबदल करके ना केवल आप उनके तनाव को कम कर सकती हैं, बल्कि उनकी सेहत को खराब होने से भी बचा सकती हैं?
up board exam 2019
नाश्ता है महत्वपूर्ण यदि दिन की शुरुआत पौष्टिक नाश्ते के साथ की जाए तो शरीर का मेटाबॉलिज्म तेज रहता है और शरीर में ऊर्जा का स्तर बना रहता है। इसलिए बच्चों को नाश्ते में दही के साथ भरवां परांठा, वेजिटेबल दलिया या ओट्स, चीला, मल्टीग्रेन टोस्ट, इडली या उबले अंडे अवश्य दें। ये खाद्य पदार्थ जटिल कार्बोहाइड्रेट युक्त होते हैं और इन्हें पचने में ज्यादा समय लगता है, जिससे शरीर को लगातार ऊर्जा मिलती रहती है।
bihar board exam 2019 admit card
लंच व डिनर पर भी दें पूरा ध्यान यदि दोपहर के भोजन और रात के खाने में सभी पोषक तत्वों जैसे प्रोटीन, फैट्स, कैल्शियम और विटामिन्स का ध्यान रखा जाए तो सुस्ती नहीं आती और पढ़ाई में मन लगा रहता है। इसलिए अपने बच्चे की डाइट के लिए यह सुनिश्चित करें कि आप उन्हें रोटी, चावल, हरी पत्तेदार सब्जियां, दालें, ताज फल और दही रोजाना परोसें। पानी की कमी न होने दें जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है, तो सुस्ती और थकान महसूस होने लगती है, क्योंकि शरीर से ऊर्जा खत्म होने लगती है। इसलिए पूरा दिन बच्चों को नीबू पानी, छाछ, सूप और नारियल पानी जैसे पेय पदार्थ देती रहें। हां, चाय, कॉफी और कोल्ड ड्रिंक्स के बहुत ज्यादा सेवन से बचना चाहिये, क्योंकि कैफीन की ज्यादा मात्रा एकाग्रता को प्रभावित करती है।
candidates at 69000 teacher recruitment exam
सूखे मेवे हैं जरूरी खाने के बीच में या पढ़ाई के ब्रेक के दौरान स्नैक्स के रूप में बच्चों को वेफर्स और नमकीन देने के बजाए उन्हें सूखे मेवे खाने को दें। बादाम, अखरोट, पिस्ता, किशमिश, फ्लैक्स सीड और चिया सीड जैसे मेवों में अन्य पोषक तत्वों के साथ ओमेगा-3 फैटी एसिड प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो याददाश्त बढ़ाने का काम करते हैं। फल हैं बेहद गुणकारी हर मौसम के ताजे फल विटामिन्स (विशेष रूप से विटामिन-सी), मिनरल्स और फाइबर का भंडार होते हैं, साथ ही इनमें एंटी ऑक्सीडेंट्स भी पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं, जो तनाव को कम करने में मदद करते हैं। इसलिए चाहें तो बच्चों को फलों की चाट बनाकर दें या दही में भी फल काटकर खिला सकती हैं। इन बातों का भी रखें ध्यान ’ तनाव को कम करने और शरीर में ऊर्जा का स्तर बनाए रखने के लिए एक ही बार में भरपेट खाने के बजाय नियमित अंतराल पर कुछ-न-कुछ खाने को दें। ’ जंक फूड और ज्यादा तला-भुना खाना बच्चे को सर्व करने से परहेज करें। ’ मीठा खाने की इच्छा होने पर फलों पर या सूखे मेवों पर शहद डालकर बच्चे को दें। ’ गाजर, ब्रोकली और हरी पत्तेदार सब्जियां विटामिन ए, ई और सी का भंडार होती हैं, जो दिमाग को सतर्क रखने में मदद करते हैं। ये भी सर्व करें। ’ गेहूं का आटा, गाय का दूध, अंडा, राइस ब्रान और जौ में विटामिन बी-1 का भंडार होता है, जो याददाश्त को बढ़ाने में सहायक होता है। ’ यदि बच्चा हॉस्टल में रहता है तो बात करते वक्त उसे सेहतमंद खाना खाने के लिए प्रेरित करें। पढ़ाई के बीच ब्रेक लेने के लिए भी कहें। ( न्यूट्रिशनिस्ट निवेदिता सिंह से बातचीत पर आधारित)
bihar board exam
कहीं आपके घर में तो नहीं है लेट ईटर और ट्रीटर? परीक्षा की तैयारी के दौरान छात्र कई अन्य तरीकों से भी तनाव को कम करने की कोशिश करते हैं। कुछ बच्चे तो बहुत ज्यादा खाने लगते हैं, जबकि कुछ सामान्य से बहुत कम आहार लेने लगते हैं। लेकिन ये दोनों ही बातें ठीक नहीं हैं। कुछ बच्चे पढ़ाई करते समय हर वक्त कुछ न कुछ खाते ही रहते हैं। इन्हें स्नैकर्स कहा जाता है, जबकि कुछ बच्चे थोड़ी-सी पढ़ाई से खुश होकर खुद को ही ट्रीट देने लगते हैं। ऐसे बच्चों को ट्रीटर के रूप में जाना जाता है। शोध बताते हैं परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन के लिए खानपान में संतुलन बनाए रखना जरूरी होता है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Board Exam: know from Expert How to be a child diet at the time of examination