DA Image
हिंदी न्यूज़   › फोटो   › हेल्थ  ›  आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव
हेल्थ

आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव

Thu, 25 Apr 2019 08:53 AM
आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव
1/5

हर साल, विश्व मलेरिया दिवस एक विशेष विषय पर केंद्रित होता है। इस साल 2019 में विश्व मलेरिया दिवस की थीम है-“ जीरो मलेरिया स्टार्ट्स विथ मी”। जिसका तात्पर्य है स्वयं को मलेरिया से मुक्त रखने की शुरुआत। इसका मतलब है कि मलेरिया को खत्म करने के लिए सभी व्यक्तियों को अपने स्तर पर प्रयास करने चाहिए और इसकी शुरुआत वो अपने से करें। यानी पहले अपने आसपास इस बीमारी के खतरे को कम करके आगे बढ़े।

आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव
2/5

मच्छरों वाली जगहों पर जाने से बचें। वृद्ध वयस्क, छोटे बच्चे और शिशु, गर्भवती महिलाओं और अजन्मे बच्चों को मलेरिया का ज्यादा खतरा होता है, ऐसे लोग किसी भी कीमत पर ऐसी जगहों से बचें। मलेरिया को रोकने के लिए, सुनिश्चित करें कि आप ऐसे कपड़े पहनें जो आपको अच्छी तरह से कवर करें, खासकर यदि आप उन क्षेत्रों में जा रहे हैं जहां मच्छर प्रजनन कर सकते हैं। घर में जालीदार खिड़की और दरवाजे लगवाएं। कूलर और पानी की टंकी को समय-समय पर साफ करती रहें। नीली लो वोल्टेज टयूबलाइट से भी मच्छर दूर भागते हैं।

आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव
3/5

मलेरिया में तेज बुखार के साथ ठंड लगना, उल्टी, दस्त, तेज पसीना, हाथ-पैर में कपकपी आना तथा शरीर का तापमान 100 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बढ़ जाना, सिर दर्द, शरीर में जलन तथा मलेरिया होने के पश्चात रोगी का शरीर में कमजोरी महसूस होना आदि मलेरिया के लक्षण हैं। इस तरह के लक्षण दिखने पर तत्काल अपना चेकअप करवाना चाहिए

आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव
4/5

मलेरिया सबसे अधिक मच्छर के काटने से फैलता है। जिस व्यक्ति को मलेरिया होता है, उसे काटने से मच्छर संक्रमित हो जाता है। जब यह मच्छर आपको भविष्य में काटता है, तो यह आपके लिए मलेरिया परजीवी को प्रसारित करने की प्रवृत्ति रखता है। जब ये परजीवी आपके शरीर में प्रवेश करते हैं, तो वे आपके लीवर में जाते हैं, जहां वो लंबे समय तक निष्क्रिय रह सकते हैं। जब ये परजीवी परिपक्व होते हैं, तो वे लाल रक्त कोशिकाओं को संक्रमित कर सकते हैं। यह वह चरण है जब व्यक्ति में मलेरिया के लक्षण विकसित शुरू होते हैं।

आज है विश्व मलेरिया दिवस, जानें इस बीमारी के लक्षण, कारण और बचाव
5/5

इस स्तर पर, यदि कोई संक्रमित मच्छर आपको काटता है, तो वह मलेरिया परजीवियों से संक्रमित हो जाता है और इसे अन्य लोगों को भी काट सकता है। मलेरिया मां से अजन्मे बच्चे में भी फैल सकता है। इसके अलावा रक्त संक्रमण के माध्यम से और दवाओं को इंजेक्ट करने के लिए उपयोग की जाने वाली सुइयों को साझा करने से भी ये फैलता है। अदरक आपके इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करता है। जिससे आपको इन्फेक्शन से लड़ने की ताकत मिलती है और रोग से जल्दी आराम मिलता है। अदरक में सक्रिय घटक जिंजरोल होता है जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं, यही वजह है कि अदरक को मलेरिया समेत कई बीमारियों के इलाज के लिए सबसे प्रभावी प्राकृतिक उपचारों में से एक माना जाता है।

अगली गैलरी