DA Image

अगली फोटो

बेली फैट और उम्र का असर कम करने के लिए रोज खाएं ये 7 आयुर्वेदिक सुपरफूड

लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्ली
आयुर्वेद में कहा गया है कि हम जो भी चीजें खाते हैं, उनमें 6 में एक स्वाद जरूर होना चाहिए। यह हैं मीठा, नमकीन, खट्टा, कड़वा, तीखा और कसैला। पिछले 20 साल से आयुर्वेदिक रिसर्च और हेल्थकेयर प्रोडक्ट के क्षेत्र में काम कर रहे कैराली आयुर्वेदिक ग्रुप के डॉक्टर राहुल डोगरा का कहना है कि आयुर्वेद में कहा जाता है सही भोजन शरीर को डिटॉक्स करता है, ऊर्जावान बनाता है और विचारों में सात्विकता को बढ़ाता है। इससे प्रतिरोधकत क्षमता बढ़ती है और शारीरिक व मानसिक ताकत में इजाफा होता है और डाइजेशन बेहतर होता है। आइए जानते हैं इनके बारे में
ginger
अदरक : इसमें एंटी इनफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो भूख बढ़ाते हैं और आंतों में दद, गैस और पेट फूलने की समस्या में राहत पहुंचाते हैं। ताजा अदरक का रस गर्भावस्था से जुड़ी मितली की समस्या में राहत देता है। सूखी अदरक का पाउडर बनाकर उसमें बादाम तेल मिलाकर जोड़ों दर्द में लगाने से आराम मिलता है। यह माइग्रेन के दर्द और कोलेस्ट्रॉल का स्तर घटाने में भी मददगार है।
ashwagandha
अश्वगंधा : इसे तनाव, बेचैनी और थकान को कम करने वाले गुणों के लिए आयुर्वेद में खास जगह हासिल है। रूमेटॉयड आर्थराइटिस और दर्द वाली सूजन में आराम के लिए अश्वगंधा की पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता रहा है। पुरुषों में स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।
आंवला : इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट के कारण इसकी काफी अहमियत है। यह डाइजेटिव टॉनिक की तरह काम करता है, आंतों को साफ करता है और शरीर से अतिरिक्त गर्मी को भी बाहर निकालता है। यह विटामिन सी और कैल्शियम का अच्छा स्रोत होता है और इसमें एंटी एजिंग प्रॉपर्टी भी होती हैं। डैंड्रफ से रोकथाम के लिए आंवला का तेल बालों में भी लगाया जाता है।
turmeric milk
हल्दी : हल्दी को इंटरनेशनल सुपरफूड का दर्जा हासिल हो चुका है। इसमें एंटी वायरल, एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं, जो इसे खास बनाते हैं। यह त्वचा संबंधी परेशानियों में इस्तेमाल की जाती है और लिवर को डिटॉक्स करती है। ब्लड शुगर का स्तर कम करने में भी इसका अहम योगदान रहता है। इसे दूध में काली मिर्च और शहद के साथ मिलाकर पीने से सेहत के लिए संपूर्ण रूप से काफी फायदेमंद होती है।
ghee
घी : हाल के अध्ययनों में घी से जुड़ी भ्रांतियां काफी हद तक दूर हुई हैं। अब घी को वजन बढ़ाने का कारक नहीं माना जाता है, बल्कि यह कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक है। इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड्स की मौजूदगी दिल की सेहत के लिए अच्छी है। यह आंखों और त्वचा के लिए भी अच्छा होता है।
tulsi leaves
तुलसी : तुलसी की पत्तियों का अदरक और इलायची के साथ काढ़ा बनाकर पीने से गले की खराश, सिरदर्द और जकड़न में आराम मिलता है। तुलसी की पत्तियों का रस दाद व स्किन की अन्य परेशानियां दूर करने में भी सहायक होता है। तुलसी का नियमित सेवन करने से खून साफ होता है, ब्लड शुगर का स्तर कम होता है और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
brahmi
ब्राह्मी : इसका सबसे प्रसिद्द उपयोग बुद्धि में बढ़ोतरी करने के लिए किया जाता है। इसमें कई सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं। जैसे ग्लाइकोसाइड, वैलेरिन, एस्कॉर्बिक एसिड, ब्राह्मिक एसिड, आदि। यह कब्ज, गाठिया, खून साफ करना, और हार्ट, बालों के लिए भी फायदेमंद है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:reduce belly fat and effects of aging fast with these 7 ayurvedic superfood