DA Image

अगली फोटो

Health tips : महिलाओं में दिल की बीमारी को दूर रखेगा बस ये एक उपाय

हिटी, नई दिल्ली
women sitting photo shutterstock
कामकाजी महिलाओं का दिन दफ्तर में लंबी अवधि तक बैठकर बीतता है। दिनचर्या में बदलाव के कारण अधिकतर घरेलू महिलाएं भी बैठकर दिन बिताती हैं। सैन डिएगो के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में हाल ही में हुए एक अध्ययन के मुताबिक ज्यादा देर तक बैठे रहने से हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। इससे बचाव के लिए दिनभर बैठने के समय में ज्यादा नहीं सिर्फ एक घंटे की कटौती प्रभावशाली साबित हो सकती है। अध्ययन के मुताबिक एक घंटे की कटौती से महिलाओं में कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का खतरा 12 प्रतिशत कम हो सकता है, जबकि इसी उपाय से दिल की बीमारी का खतरा 26 प्रतिशत तक घट जाता है।
heart attack risk in women
पांच हजार से अधिक महिलाओं पर हुआ अध्ययन : शोधकर्ताओं ने 63 से 97 वर्ष की आयु की 5,600 से अधिक ऐसी महिलाओं पर अध्ययन किया, जिन्हें पहले कभी हृदयाघात और दिल का दौरा पड़ने की समस्या नहीं रही। चार से सात दिनों तक महिलाओं की शारीरिक गतिविधियों की निगरानी की गई और करीब पांच सालों तक उनकी कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ की जांच की गई। शोधकर्ताओं ने पाया कि प्रत्येक दिन एक अतिरिक्त घंटा बैठकर न बिताने वाली महिलाओं में कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का खतरा 12 प्रतिशत कम देखा गया और दिल की बीमारियों के खतरे में 26 प्रतिशत की कमी देखी गई।
heart health
रक्त संचार होता है कम: दिनभर में कम अवधि तक बैठने वाली महिलाओं के मुकाबले, जो महिलाएं 11 घंटे या उससे भी ज्यादा देर तक बैठती हैं, उनका बीएमआई हाई होता है और मधुमेह, हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों का खतरा भी ज्यादा होता है। जो महिलाएं लंबी अवधि तक लगातार बैठी रहती हैं, उनमें उन महिलाओं के मुकाबले बीमारियों का खतरा 52 प्रतिशत अधिक होता है, जो उतनी ही देर तक छोटे-छोटे अंतराल में बैठती हैं। दरअसल, लगातार बैठे रहने से हृदय की ओर रक्त का संचार कम हो जाता है और रक्त वाहिकाओं की कोशिकाओं की भी क्षति होती है।
healthy heart
ये खास ध्यान रखें : 45 साल से ज्यादा उम्र के पुरुष और 55 वर्ष से ज्यादा आयु की महिलाएं अपना खास ख्याल रखें। इन्हें दिल के दौरे का खतरा ज्यादा रहता है : धूम्रपान और नशीले पदार्थ लेने वाले, उच्च रक्तचाप के पीड़ित, कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के उच्च स्तर वाले लोग, डायबिटीज के रोगी, जिनके परिवार में दिल के रोग की समस्या रही हो, कम शारीरिक व्यायाम करने वाले लोग, मोटापाग्रस्त लोग, तनाव या अवसादग्रस्त लोग, ऐसे लोग, जिन्हें कमजोर प्रतिरक्षा तंत्र से संबंधी कोई बीमारी जैसे रूमटॉइड आर्थराइटिस या लुपस हो
heart attack
शारीरिक व्यायाम है असरदार : अध्ययन के मुताबिक शारीरिक व्यायाम करने वाली महिलाओं में लंबी अवधि तक बैठने वाली महिलाओं के मुकाबले हृदयरोग का खतरा जादुई रूप से कम होता है। अध्ययन से जुड़ी प्रमुख शोधकर्ता एंड्रिया लॉक्रिक्स का कहना है कि समय में ये कटौती एक साथ करने की जरूरत नहीं है। 60 वर्ष से अधिक की महिलाओं को हमारा सुझाव है कि वह लगातार बैठने से बचें। जितनी बार संभव हो बीच-बीच में उठकर हल्की-फुल्की चहलकदमी करके भी वह दिल के रोगों का खतरा टाल सकती हैं। हालांकि बैठना वास्तव में खतरा क्यों है इस बारे में अभी और अध्ययन होने बाकी हैं।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Just 1 thing can reduce heart problem in women by 12 percent