Diabetes can be controlled just follow these things - नियंत्रित हो सकती है डायबिटीज, बस इन बातों पर करें अमल 1 DA Image
17 नबम्बर, 2019|5:54|IST

अगली फोटो

नियंत्रित हो सकती है डायबिटीज, बस इन बातों पर करें अमल

हिन्दुस्तान फीचर टीम, नई दिल्ली
diabetes medicine
मधुमेह आज एक गंभीर समस्या बन चुकी है। जीवनशैली से संबंधित बीमारियों में प्रमुखता से शामिल मधुमेह यानी डायबिटीज की चपेट में हर उम्र के लोग आ रहे हैं। 14 नवंबर को विश्व डायबिटीज दिवस है। इस मौके पर विशेषज्ञों से बातचीत कर इस बीमारी के बारे में जानकारी दे रही हैं इंद्रेशा समीर डायबिटीज एक बार हो जाए तो उम्र भर का अभिशाप बन जाती है। दुनिया में सबसे ज्यादा डायबिटीज के रोगी इस समय हमारे देश में हैं। एक अध्ययन के अनुसार, सात करोड़ से ज्यादा हिदुस्तानी डायबिटीज रोगियों में शामिल हैं, जिनकी संख्या अगले 10 साल तक 15 करोड़ के पार भी जा सकती है। इन हालात के बावजूद चिंताजनक यह है कि इस बीमारी के प्रति लोग अभी भी उतने जागरूक नहीं हैं, जितना होना चाहिए। 15 से 49 आयु वर्ग के हमारे देश के सिर्फ आधे वयस्क ही डायबिटीज की स्थिति के बारे में ठीक-ठाक ढंग से जानकारी रखते हैं।
diabetes kids
कैसे होती है डायबिटीज सामान्य भाषा में कहें तोजब हमारे शरीर में किसी वजह से ग्लूकोज को अवशोषित करने की क्षमता खत्म हो जाती है तो डायबिटीज की बीमारी पैदा होती है। असली भूमिका है इंसुलिन नाम के हार्मोन की, जो शरीर के भीतर आहार को ऊर्जा में बदलने का काम करता है। इसी की वजह से शरीर में ग्लूकोज नियंत्रण में रहता है। जब पैंक्रियाज से इंसुलिन का स्राव कम हो जाता है, तो रक्त में इसकी मात्रा बढ़ जाती है। बीमारी का चेहरा पहचानें डायबिटीज के अब तक दो रूप माने जाते रहे हैं। टाइप-1 और टाइप-2, टाइप-1 डायबिटीज का मुख्य लक्षण शरीर में इंसुलिन का बनना बंद होना है, जबकि टाइप-2 की स्थिति में शरीर में इंसुलिन का जरूरत के हिसाब से निर्माण नहीं होता या इसका इस्तेमाल ठीक ढंग से नहीं हो पाता। इंसुलिन का निर्माण रुक क्यों जाता है, इसका अभी पता नहीं लग पाया है, पर चिकित्सा विज्ञानियों की एक धारणा है कि टाइप-1 डायबिटीज के कारणों में आनुवंशिकता और वायरल इन्फेक्शन विशेष रूप से शामिल हैं। टाइप-2 डायबिटीज में शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के काम में रुकावट पैदा करने लगती हैं, पर उस रुकावट को दूर करने के लिए पैंक्रियाज उतने इंसुलिन का स्राव नहीं कर पाता, जितने की जरूरत होती है। इसके मूल कारण का अभी तक ठीक-ठीक पता नहीं लगाया जा सका है, पर मोटापा, पर्यावरणीय कारक और आधुनिक जीवनशैली को इसके मुख्य कारणों के रूप में देखा जाता है। टाइप-2 आमतौर पर 45 साल की उम्र के बाद होता रहा है
diabetes
डायबिटीज की पांच श्रेणियां स्वीडन के ल्युड यूनिवर्सिटी डायबिटीज सेंटर और फिनलैंड के इंस्टीट्यूट फॉर मॉलिक्यूलर मेडिसिन ने 14,775 मरीजों पर व्यापक अध्ययन करने के बाद पाया कि डायबिटीज रोगियों को 5 अलग-अलग क्लस्टर में विभाजित किया जा सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार, इन सबका इलाज भी अलग-अलग तरीके से किया जाना चाहिए। चिकित्सा विज्ञानियों का कहना है कि टाइप-1 डायबिटीज को इम्यून सिस्टम से संबंधित गंभीर बीमारी की श्रेणी में रखा जाना चाहिए तथा टाइप-2 डायबिटीज को चार श्रेणियों में बांटा जाना चाहिए। लक्षणों पर ऱखें नजर ’प्यास ज्यादा लगना ’भूख ज्यादा लगना ’वजन बढ़ना या अकारण कम होने लगना ’थोड़ी मेहनत करने पर या अनायास थकान महसूस करना ’शरीर में पानी की कमी होना ’बार-बार मिचली महसूस होना ’सामान्य से ज्यादा पेशाब आना ’बार-बार मुंह सूखना ’अकारण वमन होना ’घाव लंबे समय तक ठीक न होना ’संक्रमण के प्रति अति-संवेदनशीलता ’आंखों से धुंधला दिखाई देना ’मुंह में अकसर छाले होना ’त्वचा में खुजली होना ’बार-बार फोड़े-फुंसी होना ’असामान्य चिड़चिड़ापन ’मसूड़ों से खून बहना
diabetes
डायबिटीज के बड़े खतरे ’डायबिटीज ज्यादा समय तक अनियंत्रित रहे तो हृदयाघात हो सकता है। ’ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने से हार्मोनल बदलाव होते हैं और कोशिकाएं क्षतिग्रस्त होती हैं। ’आंखों की रोशनी कम हो सकती है या अंधापन पैदा हो सकता है। ’हाथ-पैरों में संक्रमण हो सकता है। ’प्रतिरक्षा प्रणाली इतनी कमजोर हो जाती है कि भांति-भांति की बीमारियां आसानी से आक्रमण करने लगती हैं। ’किडनी फेल हो सकती है।
haldi
बड़े काम की हल्दी एविडेंस-बेस्ड कॉम्प्लिमेंट्री ऐंड अल्टरनेटिव मेडिसिन नामक अमेरिकी जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार हल्दी में मौजूद कक्र्यूमिन रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम कर सकता है और इससे डायबिटीज की समस्याओं को ठीक किया जा सकता है। अमेरिकन डायबिटिक एसोसिएशन की एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार, हल्दी में पाया जाने वाला कक्र्यूमिन टाइप-2 डायबिटीज को रोकता है। हल्दी की जड़ का अर्क भी ग्लूकोज को कम करने के साथ इंसुलिन प्रतिरोध को कम करता है। अध्ययनों के अनुसार, कक्र्यूमिन रक्त वाहिनियों में वसा का जमाव नहीं होने देता। कक्र्यूमिन बीटा कोशिकाओं की मरम्मत और पैंक्रियाज कोशिकाओं की कार्यक्षमता बढ़ाता है। द अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के एक जर्नल डायबिटिक केयर में प्रकाशित एक शोध रिपोर्ट में डायबिटीज की आशंका वाले लोगों पर कक्र्यूमिन के असर पर अध्ययन किया गया। स्टडी में117 लोगों को 9 महीनों के लिए दो हिस्सों में बांट दिया गया। इसमें से एक समूह को कक्र्यूमिन दिया गया, जबकि दूसरे को नहीं दिया गया। जिन्हें कक्र्यूमिन दिया गया था, उन्हें डायबिटीज होने के आसार नहीं बढ़े, जबकि दूसरे समूह के 16.4% लोगों में टाइप-2 डायबिटीज की वृद्धि देखी गई। डॉक्टरों के मुताबिक, हल्दी का सेवन करने के बावजूद दवा सेवन में लापरवाही न बरतें। कैसे लें हल्दी आधा चम्मच हल्दी गर्म दूध में मिलाकर लें। इसे आधा चम्मच पानी के साथ भी ले सकते हैं। एक चम्मच आंवले के रस में एक चुटकी हल्दी मिला कर लेना भी फायदेमंद है। लौंग, इलायची, अदरक की हर्बल चाय में चुटकी भर हल्दी मिलाकर पीना भी फायदेमंद साबित होता है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Diabetes can be controlled just follow these things