DA Image

अगली फोटो

अनोखी पहल : यात्रियों को विमान में इस तरह परोसी जाएगी कॉफी, जानें एयर न्यूजीलैंड की इस कोशिश के बारे

एजेंसी, वेलिंगटन
air newzeland
जेट हवाई जहाज एक मील की उड़ान पर 53 पाउंड (करीब 24 किलो) कार्बन डाईऑक्साइड पैदा करता है। लेकिन, यह तब तक कम नहीं हो सकता, जब तक कि एविएशन बायोफ्यूल की उचित मात्रा में उपलब्धता नहीं हो जाती। इसलिए ज्यादातर एयरलाइंस ने अपने कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के लिए दूसरे तरीके तलाशने शुरू कर दिए हैं। अब यात्रियों को ऐसे बायो कप में चाय व कॉफी दी जाएगी, जो पौधों से बने होंगे। इस एक कदम से ही एयरलाइन हर साल प्लास्टिक से बनी 20 लाख चीजें कम कर देगी।
coffee
कार्बन उर्त्सजन कम होगा: एयर न्यूजीलैंड उड़ान के दौरान इस्तेमाल होने वाली ऐसी सभी चीजों को बदल रही है, जिनमें प्लास्टिक होता है इसका एक लाभ यह होगा कि इससे विमान हल्का होगा और ईंधन की भी बचत होगी। एयरलाइंस की इस बारे में जारी लिस्ट बहुत लंबी है, लेकिन इसमें प्लास्टिक से बने कप, पानी की बोतल, सॉस के पैकेट और चीज की ट्रे भी शामिल हैं। इनका इस्तेमाल रोकने से एयरलाइंस हर साल करीब एक करोड़ पाउंड (46 लाख किलो) कार्बन डाई ऑक्साइड पैदा होने से रोक सकेगी।
carbon emmissions
एयरलाइन के इस कदम से यात्रियों को चिंतित होने की जरूरत नहीं है। उनको फ्लाइट में बिना पानी के सफर नहीं करना पड़ेगा। वास्तव में फ्लाइट में ये सभी चीजें मिलेंगी, बस यह अब कुछ अलग अंदाज में दी जाएंगी। उदाहरण के लिए- सॉस के प्लास्टिक के पैकेट की जगह यह यात्रियों को दोबारा इस्तेमाल करने लायक प्लेट या कटोरी में दिया जाएगा। एयरलाइन द्वारा हर साल करीब तीन करोड़ तो प्लास्टिक के कप ही इस्तेमाल किए जाते हैं।
coffee
घरेलू उड़ानों में लागू : एयरलाइन घरेलू उड़ानों में पौधों से बने कप में कॉफी सर्व करने की इस पहल को शुरू भी कर चुकी है। एयर न्यूजीलैंड ने 2018 में 35 लाख टन कार्बन डाईऑक्साइड पैदा की थी। कार्बन उत्सर्जन को कम करने की दिशा में यह एक बेहतरीन कदम है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:anokhi pahal know air new zealand will serve coffee in plant made cups to reduce carbon emmissions