DA Image
हिंदी न्यूज़   › फोटो   › कॅरियर  ›  gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
कॅरियर

gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू

Wed, 02 Oct 2019 01:53 PM
gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
1/6

महात्मा गांधी फोटो -1, 1930 के आखिरी दशकों में महात्मा गांधी के भाई के पोते कनु गांधी ने भी फोटोग्राफी करना शुरू रक दिया था। गांधी ने जी ने उन्हें तस्वीरें लेने की अनुमति दी थी लेकिन बिना फ्लैश के। साथ ही वह किसी पोज के लिए न कहने की शर्त भी थी। ऐसी तस्वीर उसी का परिणााम है जो शायद किसी को देखने को नहीं मिल पातीं। (नेशनल गांधी म्यूजियम)

gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
2/6

दिल्ली के बारह खंबा रोड स्थित मॉडर्न स्कूल में गाधीजी 1935 में पहुंचे थे। बच्चों से उनका हाल चाल जाना था। (नेशनल गांधी म्यूजियम)

gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
3/6

महात्मा गांधी फोटो -3, अक्टूबर 1939 में द्वितीय विश्व युद्ध् के समय महात्मा गांधी वाइसराय लॉड लिनलिथगो से मिलने जाते हुए। उनके साथ बाईं ओर महादेव देसाई और उनके बगल में डॉक्टर राजेद्र प्रसाद मौजूद हैं। (नेशनल गांधी म्यूजियम)

gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
4/6

महात्मा गांधी फोटो -4, जनवरी 1948 में महात्मा गांधी कुतुब्बुद्दीन बख्तियार काकी की दरगाह के बाहर कुछ लोगों के साथ। आजादी के बाद देश का बंटवारा हुआ जिसमें भयानक हिंसा शुरू हुई इसी के विरोध में जनवरी 1948 में महात्मा गांधी भूख हड़ताल पर बैठे थे जो उनकी आखिरी हड़ताल साबित हुई। (नेशनल गांधी म्यूजियम)

gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
5/6

महात्मा गांधी फोटो -5, महात्मा गांधी मई 1944 में अपने बेटे देवदास के साथ मुंबई के जुहू बीच पर बैठकर समुद्र की लहरों को निहारते हुए। (नेशनल गांधी म्यूजियम)

gandhi jayanti 2 october: तस्वीरों में देखिए महात्मा गांधी के जीवन के अनछुए पहलू
6/6

महात्मा गांधी फोटो -6, महात्मा गांधी 1946 में इंडियन नेशनल आर्मी के अधिकारी व सरदार वल्लभ भाई पटेल और जवाहर लाल नेहरू से घिरे हुए। आईएनए 1943 में नेता जी सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व एक बार फिर से तैयार हो चुकी थी। (नेशनल गांधी म्यूजियम)

अगली गैलरी